Home » इंडिया » MNS: When attacks happen in Syria and Paris then Pak artistes tweet sympathy
 

मनसे: सीरिया-पेरिस में हमले पर संवेदना जताने वाले पाक कलाकार उरी पर चुप क्यों?

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 6:42 IST
(पीटीआई)

पाकिस्तानी कलाकारों पर राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के हमलावर तेवर जारी हैं. पांच दिन पहले भारत में रहने वाले पाकिस्तानी कलाकारों को भारत छोड़ने की धमकी के बाद एक बार फिर पाक कलाकारों को मनसे ने निशाने पर लिया है.

मनसे की चित्रपट कर्मचारी सेना के नेता अमीय खोपकर ने मीडिया से बातचीत में कहा, "हम किसी खास कलाकार के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन आप कला और देश को अलग नहीं कर सकते. देश सबसे पहले है."

मुंबई में रहने वाले पाक कलाकारों पर निशाना साधते हुए मनसे नेता ने कहा, "जब सीरिया और पेरिस में आतंकी हमले होते हैं, तो भारत में काम और सम्मान पाने वाले पाकिस्तानी कलाकार ट्वीट करते संवेदना और दुख प्रकट करते हैं, लेकिन उरी हमले पर ऐसा कुछ नहीं करते."

पाक कलाकारों को दी थी धमकी

इससे पहले एमएनएस के चित्रपट कर्मचारी सेना के नेता अमीय खोपकर ने एक बयान जारी करते हुए कहा था, "हम सभी पाकिस्तानी कलाकारों और एक्टरों को भारत छोड़ने के लिए 48 घंटे का समय देते हैं. उसके बाद एनएनएस उन्हें बाहर फेंक देगी."

गौरतलब है कि इससे पहले भी राज की पार्टी एमएनएस और उनके भाई की पार्टी शिवसेना समय-समय पर पाक कलाकारों का विरोध करती रही है.

शिव सेना ने तो पिछले महीने ही मुंबई में पाकिस्तानी गजल गायक गुलाम अली के कार्यक्रम का विरोध किया था, जिसके बाद कार्यक्रम प्रायोजकों को कार्यक्रम रद्द करना पड़ा था.

फाइल फोटो

करण जौहर ने किया था विरोध

बॉलीवुड फिल्मकार करण जौहर ने मनसे के इस रवैए के खिलाफ आवाज उठाई थी. जौहर ने कहा, "पाकिस्तानी कलाकारों पर पाबंदी लगाना आतंकवाद का समाधान नहीं है."

राज ठाकरे की पार्टी ने फ़वाद ख़ान और माहिरा ख़ान जैसे पाकिस्तानी कलाकारों को भी 48 घंटे के भीतर भारत से चले जाने की धमकी दी थी. एमएनएस ने ये धमकी दी थी कि वो ऐसी फ़िल्मों को रिलीज़ नहीं होने देंगे जिनमें पाकिस्तानी कलाकार काम कर रहे हैं.

जौहर की आने वाली फ़िल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' में फ़वाद ख़ान अभिनय कर रहे हैं. यह फ़िल्म दीवाली में रिलीज होने वाली है.

करण जौहर ने एक न्यूज चैनल को बताया, "मैं लोगों की तकलीफ और गुस्से को समझ सकता हूं. जिनकी जानें गईं उनके लिए मेरा दिल रो रहा है. आतंकवाद को किसी भी रूप में सही नहीं ठहराया जा सकता है. लेकिन पाक कलाकारों पर प्रतिबंध लगाने से कोई हल नहीं निकलेगा."

करण ने कहा, "ये कहते हुए मुझे डर लगता है. मैं वो दर्द और गुस्सा भीतर तक महसूस कर रहा हूं. यदि इस वजह से मेरी फ़िल्मों को निशाना बनाया जाता है तो मुझे बहुत तकलीफ होगी."

साथ ही जौहर का कहना था, "कई बार हम बस इतना कहना चाहते हैं कि हम रचनात्मक लोग हैं, प्लीज हमें अकेला छोड़ दो. हम फ़िल्में बनाते हैं, प्यार फैलाते हैं. दुनिया भर में लाखों लोग हमारे काम से खुश हैं. हमें आप वही करने दें."

First published: 28 September 2016, 1:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी