Home » इंडिया » Pakistani JIT's last day in India investigating Pathankot terror attack
 

पठानकोट हमला: पाकिस्तानी जेआईटी का भारत में आखिरी दिन

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 April 2016, 14:06 IST

2 जनवरी को पठानकोट में हुए आतंकी हमले की जांच के लिए भारत आई पाकिस्तानी जेआईटी के दौरे का आज आखिरी दिन है. पाकिस्तानी जांच टीम ने मामले से जुड़े गवाहोें से पूछताछ की है.

एनआईए के दो अफसरों की मौजूदगी में आतंकी हमले के गवाहों से जानकारी जुटाई गई. खबर है कि जेआईटी ने इस बात से इनकार नहीं किया है कि पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले में जैश-ए-मोहम्मद का हाथ है.

हालांकि भारतीय जांच टीम कब पाकिस्तान जाएगी इस पर अब तक कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है. इस बारे में अंतिम निर्णय केंद्र सरकार लेगी. बताया जा रहा है कि जेआईटी तकरीबन मान चुकी है कि मारे गए आतंकी पाकिस्तानी नागरिक थे.

भारत ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को हमले की साजिश रचने का जिम्मेदार ठहराया था. लेकिन इस बिंदु पर पाकिस्तानी जेआईटी का रुख साफ नहीं है.

हालांकि एक अंग्रेजी अखबार ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि पाकिस्तानी जांच टीम ने मसूद अजहर के पठानकोट हमले में शामिल होने के कोई सबूत मिलने से इनकार किया है. 

पढ़ें: पठानकोट में पाकिस्तानी जांच टीम

28 मार्च को भारत आई थी पाकिस्तानी जेआईटी


इस साल की शुरुआत में दो जनवरी को पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले में चार आतंकवादी मारे गए थे. करीब 80 घंटे तक चले एनकाउंटर के दौरान सात सुरक्षाकर्मी भी शहीद हुए थे.

पांच सदस्यों वाली पाकिस्तानी जांच टीम पंजाब प्रांत के काउंटर टेररिज्म के एआईजी मुहम्मद ताहिर राय की अगुवाई में 28 मार्च को भारत आई थी.

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक के अफसर तनवीर अहमद, लाहौर के इंटेलिजेंस ब्यूरो के डायरेक्टर जनरल मोहम्मद अज़ीम अरशद भी जेआईटी के मेंबर हैं.

 
वहीं मिलिट्री इंटेलिजेंस के लेफ्टिनेंट कर्नल इरफान मिर्जा और गुजरांवाला से जांच अधिकारी शाहिद तनवीर ने भी 29 मार्च को पठानकोट एयरबेस पर जाकर एनकाउंटर वाली जगह का जायजा लिया था.  

पढ़ें: पठानकोट हमला: पाकिस्तान का संयुक्त जांच दल दिखावा तो नहीं?

First published: 1 April 2016, 14:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी