Home » इंडिया » Palestinian envoy shares stage with Mumbai terror attack mastermind Hafiz Saeed in Pakistan, India supports in un
 

UN में साथ देने के बावजूद फलस्तीन ने पाक आतंकी हाफिज सईद को लगाया गले

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 December 2017, 11:27 IST

भारत ने यूएन में येरुशलम के मुद्दे पर अमेरिका की जगह फलिस्तीन का साथ दिया. इसके बावजूद फलिस्तीन के राजदूत ने नापाक हरकत करते हुए मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के साथ स्टेज शेयर कर भारत को बड़ा धोखा दिया है. इस खबर के सामने आने के बाद भारत का इस पर कड़ा एतराज जताया है.

जाजनकारी के मुताबिक आंतकी संगठन जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद की पाकिस्तान के रावलपिंडी में आयोजित की गई रैली में फिलिस्तीन के राजदूत वलीद अबू अली मंच पर दिखाई दिये. मीडिया रिपोट्स के मुताबिक ये रैली भारत विरोधी थी. इसके बावजूद फिलिस्तीनी राजदूत में ना इसमें हिस्सा लिया बल्कि भारत को तबाह करने की धमकी देने वाले आतंकी हाफिज के साथ स्टेज शेयर किया.

इस रैली की तस्वीरें सामने आने के बाद भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बयान जारी कर कहा, "हम इस मामले को फलिस्तीन के सामने मजबूती से उठाएंगे. हमने इस मामले से संबधित रिपोर्ट्स को देखा है. हम नई दिल्ली में इस मामले को फलिस्तीन के राजदूत और अन्य अधिकारियों के साथ रखेंगे".

इस रैली का आयोजन रावलपिंडी में लियाकत बाग में कट्टर इस्लामिक पार्टियों के विभिन्न संगठनो के समूह दिफा-ए-पाकिस्तान काउंसिल ने कराया था. इस रैली का उद्देश्य भारत और अमेरिका के खिलाफ प्रचार के लिए किया गया था.

गौरतलब है कि ये वही जगह है जहां पाकिस्तान की पूर्व पीएम बेनजीर भुट्टो ने अपना आखिरी भाषण 27 दिसंबर 2007 को दिया था. इस काउंसिल में हाफिज सईद का संगठन भी शामिल है.

हाफिज सईद ने शुक्रवार को इस रैली में भारत और अमेरिका के खिलाफ जमकर जहर उगला. उसने भारत को कश्मीर और अमेरिका येरुशलम के मुद्दे पर जमकर कोसा.

अमेरिका ने हाफिज सईद को ग्लोबल आतंकी घोषित करते हुए उसके उस पर 1 करोड़ अमेरिकी डॉलर का ईनाम घोशित कर रहा है. वहीं भारत ने उसे 26 नंवबर 2008 में हुए मुंबई आतंकी हमले का मास्टरमाइंड मानता है. 

हाफिद सईद को पाकिस्तान ने इस साल की शुरुआत मे गिरफ्तार करने के बाद नजरबंद कर दिया था. उसे हाल ही में कोर्ट के आदेश के बाद छोड़ा गया है. 

गौरतलब है कि एक हफ्ते पहले इजराइल की राजधानी को येरुशलम घोषित करने के अमेरिका के प्रस्ताव के खिलाफ यूएन में भारत ने वोट डाला था. फलिस्तीन के साथ देने के बावजूद भारत के खिलाफ उसका ये रुख सवाल करता है. 

First published: 30 December 2017, 11:27 IST
 
अगली कहानी