Home » इंडिया » panama papers: bhaskar and jagran group name
 

पनामा पेपर्स: सामने आया दैनिक भास्कर और दैनिक जागरण समूह का नाम

पत्रिका ब्यूरो | Updated on: 18 May 2016, 8:38 IST
पनामा पेपर्स लीक मामले में भारत के दो प्रमुख मीडिया समूहों के शामिल होने की आशंका जताई जा रही है. इनमें से एक है दैनिक भास्कर समूह और दूसरा दैनिक जागरण समूह.

भास्कर समूह की निदेशक नीतिका अग्रवाल हैं, वहीं जागरण समूह के निदेशक संजीव मोहन गुप्त और सपना गुप्ता हैं. नीतिका अग्रवाल भास्कर समूह के चेयरमैन रमेश चंद्र अग्रवाल के सबसे छोटे बेटे पवन अग्रवाल की पत्नी हैं.

आईसीआईजे का नया खुलासा


खोजी पत्रकारों के अंतरराष्ट्रीय संगठन इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट (आईसीआईजे) ने अपनी वेबसाइट पर टैक्स हैवन देशों में पैसा रखने वालों की जो जानकारी दी है, उसमें भोपाल के पांच नाम सामने आ रहे हैं.

पढ़ें: पनामा पेपर्स का असली हीरो कौन है?

इनमें से तीन मीडिया समूहों से जुड़े हुए हैं, जबकि दो नामों के बताए पते पर दूसरे लोग मिले हैं. उन्होंने इन सबके बारे में कोई भी जानकारी होने से इनकार किया है. वहीं दूसरी ओर भास्कर समूह की नीतिका अग्रवाल ने इस संबंध में बात करने से इनकार कर दिया है. 

डीबी कॉर्प ने साधी चुप्पी


नीतिका अग्रवाल, भास्कर समूह की कंपनी डीबी कॉर्प लिमिटेड में निदेशक हैं. सेबी को 20 जुलाई 2012 को भेजे गए डीबी कॉर्प के पत्र के मुताबिक डीबी कॉर्प में नीतिका की हिस्सेदारी 1.90 फीसदी है.

जबकि इसी कंपनी में उनके पति पवन अग्रवाल 10.12 फीसदी, ससुर रमेश चंद्र अग्रवाल 17.46 फीसदी, जेठ सुधीर अग्रवाल और गिरीश अग्रवाल भी निवेशक हैं.

पढ़ें: पनामा पेपर्स के व्हिसलब्लोअर्स ने तोड़ी चुप्पी

नीतिका अग्रवाल ने अपने घर अरेरा कॉलोनी का जो पता ई-1/79 दिया है, इस पर पवन अग्रवाल, रमेश चंद्र अग्रवाल, नमिता अग्रवाल के भी वोटर कार्ड बने हैं. डीबी कॉर्प हिन्दी भाषा में दैनिक भास्कर अखबार के प्रकाशक की कंपनी है.

जागरण का पता होने से इनकार


वहीं जागरण समूह में संजीव मोहन गुप्त और सपना गुप्ता पति-पत्नी हैं. साथ ही जागरण समूह के निदेशक भी हैं. संजीव मोहन गुप्त खुद को सोशल साइट्स पर दैनिक जागरण अखबार का सह मालिक बताते हैं.

जबकि कागजों में वह कई कंपनियों के साथ जागरण को संचालित करने वाली कंपनी में बतौर निदेशक काबिज हैं. उनकी पत्नी सपना गुप्ता भी कंपनी में निदेशक हैं.

पढ़ें: भारतीय कानून पनामा लीक पेपर्स पर कार्रवाई करने में सक्षम ही नहीं हैं!

पनामा लीक्स में उनका पता बी-22, 74 दिखाया गया है, जहां वर्तमान में मदनमोहन गुप्त रह रहे हैं. मदनमोहन गुप्त राजनीतिक दल बीजेपी के प्रदेश मंत्री हैं और उनके लिए सरकारी बंगले का आवंटन किया गया है.

पनामा पेपर्स में जागरण समूह के मालिक के नाम आने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा है कि संजीव मोहन गुप्त और सपना गुप्ता इस घर में नहीं रहते हैं.

उन्होंने यह भी कहा है कि यह बंगला उनके नाम से आवंटित है और उन्होंने इसका पता किसी कंपनी के पते के रूप में दर्ज नहीं कराया है.

First published: 18 May 2016, 8:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी