Home » इंडिया » Patrika Group chairman Gulab Kothari says attack on freedom of press in India
 

झूठ बोलने के लिए मीडिया को खरीदने का काम चल रहा है: गुलाब कोठारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2017, 15:19 IST

सामाजिक सरोकार के श्रेष्ठ रचनात्मक विज्ञापनों के लिए पत्रिका समूह के 14वें अंतरराष्ट्रीय कंसर्न्ड  कम्यूनिकेटर अवॉर्ड (सीसीए) समारोह में शुक्रवार रात मुंबई में पत्रिका समूह के चेयरमैन गुलाब कोठारी ने कहा कि आजादी को 70 साल हो गए हैं और हम आज सच को सुनना ही नहीं चाहते हैं. आज भी झूठ बोलने के लिए मीडिया और लोगों को खरीदने का काम चल रहा हैं.

सरकार व मीडिया को आईना दिखाते हुए कोठारी ने कहा कि आज अभिव्यक्ति की आजादी पर अतिक्रमण हो रहा है. आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है. जिसे हमने लोकतंत्र व जनता के बीच सेतु माना था, वही मीडिया आज कहां है? कुछ मीडिया समूह ने आज जनता का पाला छोड़ दिया है और सरकार के साथ जाकर बैठ गए हैं.

यह सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि दुनियाभर में हो रहा है. सोशल मीडिया का अवतार ही झूठ बोलने के लिए हुआ है, क्योंकि कौन आधिकारिक तौर पर कह रहा है और क्या सही है, इसका पता ही नहीं चल पाता.

पत्रिका के साथ ऐसा करने की कोशिश की गई, लेकिन हमने ऐसा नहीं होने दिया. हम सुप्रीम कोर्ट तक भी गए. मीडिया लोकतंत्र का वॉचडॉग नहीं दिखाई दे रहा है. जनता की सोचने वाला कौन बचा है?

 

किसानों पर बल प्रयोग देशहित में नहीं

देश में किसान आंदोलनों पर पीड़ा जताते हुए कोठारी ने कहा कि आज इन आंदोलनों को ताकत के साथ ढहाया जा रहा है, जो देशहित में नहीं है. सभी को नोटबंदी को लेकर समस्या हुई, लेकिन हम नोटबंदी के बाद के हालात पर चर्चा नहीं करना चाहते हैं.

सरकार की नई भर्तियां बंद हो गई हैं, वहीं कई लघु उद्योगों के उजड़ जाने से बड़ी संख्या में बेरोजगारी भी बढ़ी है. न्यूयॉर्क टाइम्स के लेख का हवाला देते हुए कोठारी ने कहा कि वैश्विक स्तर पर तानाशाह सरकारों का दौर है. ऐसे में सिर्फ अपना प्रोपेगंडा मीडिया के माध्यम से चलाया जा रहा है.

ऐसे में विपक्ष को कुछ जिंदा रखने की कोशिश की जाती है, जिससे लोकतंत्र का भ्रम बना रहे. ऐसे हालात में नई पीढ़ी को कफन बांधकर आगे आना चाहिए कि जो आजादी हमें संविधान ने दी है वह बची रहे.

सरकार मीडिया हाउस को शॉर्टलिस्ट कर जनता तक झूठी बातें पहुंचा रही है. झूठ को सच बताकर रखने की कोशिश में लोगों को दिग्भ्रमित किया जा रहा है. क्योंकि यदि झूठ को सौ बार बोला जाए तो वह सच मान लिया जाता है और आज यही हो रहा है. हमें उन्हें नए सिरे सच्चाई बताकर देशहित से जोडऩा होगा, क्योंकि वे हमारे ही लोग हैं.

First published: 11 June 2017, 15:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी