Home » इंडिया » People in Wuhan, China, the most A-blood group, Lee Corona lives: study
 

coronavirus : चीन के वुहान में सबसे ज्यादा इस ब्लड ग्रुप के लोगों की ली कोरोना ने जान- अध्ययन

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 March 2020, 12:12 IST

कोरोना वायरस (coronavirus) के बढ़ते संक्रमण के बीच चीन में एक रिसर्च में सामने आया है, जिसमें कहा गया है कि वुहान में टाइप-ए (A-Group) ब्लड ग्रुप वाले लोग कोरोना वायरस सबसे ज्यादा संक्रमित हुए हैं. अध्ययन में निष्कर्ष निकला है कि टाइप-ओ (O-Group) ब्लड ग्रुप वाले लोग कोरोनावायरस के लिए अधिक प्रतिरोधी हो सकते हैं. शोधकर्ताओं ने वुहान के दो अस्पतालों में कोरोनो वायरस पॉजिटिव पाए गए 2,173 रोगियों के ब्लड का अध्ययन किया.

डेली मेल की रिपोर्ट में कहा गया है कि इनमें से 206 लोगों की कोरोना से मौत हो गई थी. ये लोग चीन के तीन अस्पातालों में भर्ती थे. अध्ययन से पता चला कि वुहान में टाइप-ए रक्त वाले लोग सबसे ज्यादा संक्रमित हैं जबकि टाइप-ओ रक्त वाले लोग सबसे कम असुरक्षित हैं. अध्ययन के अनुसार वुहान जिनिन्टन अस्पताल में 1,775 रोगियों में 37.75 प्रतिशत टाइप-ए और 9.10 प्रतिशत टाइप-ओ थे. इसका मतलब टाइप-ए ब्लड वाले लोग संक्रमित रोगियों में सबसे ज्यादा थे. वायरस से मरने वाले 206 मरीजों में 41.26 प्रतिशत टाइप ए-रक्त वाले थे. जबकि लगभग 25 प्रतिशत मौतें टाइप-ओ ब्लड वाले लोगों की थी. कहा गया है कि 206  मृतकों में से 85 ए ब्लड ग्रुप वाले थे. 

न्यू यॉर्क पोस्ट के अनुसार वुहान से बाहर स्थित सेंटर फॉर एविडेंस-बेस्ड एंड ट्रांसलेशनल मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने लिखा "इस रक्त समूह के लोगों को संक्रमण की संभावना को कम करने के लिए विशेष रूप से व्यक्तिगत सुरक्षा की आवश्यकता हो सकती है." कहा गया है कि "यदि आप टाइप ए हैं, तो घबराने की जरूरत नहीं है. इसका मतलब यह नहीं है कि आप 100 प्रतिशत संक्रमित होंगे, यदि आप टाइप ओ हैं, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप बिल्कुल सुरक्षित हैं. आपको अपने हाथों को धोने और अधिकारियों द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों का पालन करने की आवश्यकता है."

ट्रंप ने कोरोना को बताया 'चीनी वायरस', गुस्से में आया चीन

First published: 18 March 2020, 12:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी