Home » इंडिया » Per capita alcohol consumption in India more than doubled from 2005 to 2016, according to WHO report
 

हैरानी की बात: भारत में दोगुनी हुई शराब की खपत, 2025 तक और बढ़ने की उम्मीद

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 September 2018, 18:40 IST
(प्रतीकात्मक फोटो )

भारत में हर साल शराब की खपत में बढ़ोतरी हो रही है. इसका खुलासा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट में हुआ है. डब्ल्यूएचओ की ये रिपोर्ट हैरान करने वाली है. रिपोर्ट के मुताबित भारत में पिछले 10 सालों में शराब की खपत दोगुनी हो गई है. शराब पीने वालों में पुरुषों का औसत अधिक है. 

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में प्रति व्यक्ति शराब की खपत 2005 से 2016 तक दोगुना हो गई है. भारत में शराब की खपत साल 2005 में प्रति व्यक्ति 2.4 लीटर थी, साल 2016 तक बढ़कर 5.7 लीटर हो गई है. इसमें शराब का सेवन करने वाले पुरुष 4.2 लीटर और महिलाओं द्वारा 1.5 लीटर का उपभोग किया गया है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2025 तक शराब की खपत में और वृद्धि होने की उम्मीद है. 2025 तक 15 साल या उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों में शराब के सेवन में वृद्धि हो सकती है. खासतौर से दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र में सबसे अधिक वृद्धि होने की उम्मीद जताई गई है. भारत में शराब की खपत में 2.2 लीटर वृद्धि की उम्मीद जताई गई है.

भारत के अलावा इंडोनेशिया और थाइलैंड में भी कुछ वृद्धि होने की उम्मीद है. रिपोर्ट में भारत और चीन में सबसे ज्यादा शराब की खपत में वृद्धि होने की आशंका जताई गई है. क्योंकि भारत- चीन विश्व में सबसे ज्यादा जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करते हैं. भारत के बाद चीन में 2025 तक शुद्ध शराब की प्रति व्यक्ति खपत में वृद्धि 0.9 लीटर होने की उम्मीद है.

रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2000 से लेकर 2005 तक वैश्विक रूप से प्रति व्यक्ति शराब की खपत में वृद्धि देखी गई है. जो लगातार होती रही है. 2005 से लेकर 2010 तक शराब की खपत में कुल प्रति व्यक्ति 5.5 लीटर से बढ़कर 6.4 हो गई. इसके बाद 2016 में यह 6.4 लीटर के स्तर पर पहुंच गई है.

ये भी पढ़ें- शराब छोड़ते ही आपको दिखने लगेंगे ये बड़े बदलाव

First published: 22 September 2018, 18:40 IST
 
अगली कहानी