Home » इंडिया » Phlajji Who will scissors these dirty things?
 

पहलाजजी इन गंदी बातों पर कैंची कौन चलाएगा?

निखिल कुमार वर्मा | Updated on: 10 February 2017, 1:49 IST
(कैच न्यूज)
जब प्रधानमंत्री चलताऊ भाषा का प्रयोग सार्वजनिक तौर पर कर रहे हैं, तो उन्हें कौन डांटेगा?

बात प्रधानमंत्री तक ही समाप्त नहीं हुई. सोमवार को इलाहाबाद में संगम तट पर बीजेपी की रैली में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह एक कदम और आगे निकल गए. उन्होंने कहा कि आजकल कांग्रेस और बसपा के बीच ईलू-ईलू चल रहा है.

सत्ता के शीर्ष पर बैठे नेताओं को अपनी भाषा पर नियंत्रण खो देना पहली बार हो रहा है. जानकार इसे भारतीय राजनीति में नई गिरावट के रूप में देख रहे हैं.

इन सभी घटनाओं का एक सबक यह भी है कि जब देश के प्रधानमंत्री या सबसे बड़ी पार्टी के अध्यक्ष ऐसी सड़कछाप भाषा का प्रयोग करेंगे, तो जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं के शह मिलेगी.

जब से बीजेपी केंद्र में सत्तासीन हुई है, पार्टी को अपने नेताओं के विवादास्पद टिप्पणियों के चलते कई बार शर्मसार होना पड़ा है. पिछले साल खबर आई थी कि पीएम मोदी पार्टी नेताओं और मंत्रियों के गैरजरूरी बयानबाजी के चलते नाराज हैं. एक बार पीएम ने केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह को कथित तौर डांटा भी था. अब जब प्रधानमंत्री और पार्टी अध्यक्ष ही ऐसी ही चलताऊ भाषा का प्रयोग सार्वजनिक तौर पर कर रहे हैं, तो उन्हें कौन डांटेगा?

एक नजर बीजेपी नेताओं की 'गंदी बात' पर:

First published: 14 June 2016, 5:50 IST
 
निखिल कुमार वर्मा @nikhilbhusan

निखिल बिहार के कटिहार जिले के रहने वाले हैं. राजनीति और खेल पत्रकारिता की गहरी समझ रखते हैं. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से हिंदी में ग्रेजुएट और आईआईएमसी दिल्ली से पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा हैं. हिंदी पट्टी के जनआंदोलनों से भी जुड़े रहे हैं. मनमौजी और घुमक्कड़ स्वभाव के निखिल बेहतरीन खाना बनाने के भी शौकीन हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी