Home » इंडिया » Phone intercept in CBI officer AK Bassi plea to Supreme Court, Asthana toh apna aadmi hai
 

CBI विवाद में खुलासा : कॉल रिकॉर्ड में आरोपी कह रहे हैं- अस्थाना तो अपना आदमी है

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 October 2018, 11:12 IST

अपने ट्रांसफर के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने वाले सीबीआई के डिप्टी एसपी अजय कुमार बस्सी (Ajay Kumar Bassi) ने सुप्रीम कोर्ट में कुछ अहम् खुलासे किये हैं. इस खुलासे में उन्होंने आरोपियों की कुछ कॉल डिटेल का जिक्र किया हैं. बस्सी ने कहा इन कॉल डिटेल में आरोपी यह बात कर रहे हैं कि 'अस्थाना तो अपना आदमी' है. इसके अलावा बस्सी ने कई और भी गंभीर आरोप भी लगाए हैं.

एडवोकेट सुनील फर्नांडीस ने मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस यू यू ललित और जस्टिस के एम जोसेफ की बेंच के सामने अपनी याचिका रखी. बस्सी ने अपनी याचिका में कहा कि सोमेश प्रसाद और मनोज प्रसाद ने अस्थाना के नाम पर दिसम्बर 2017 और अक्टूबर 2018 में रिश्वत मांगी थी. जिसमे पहली बार 2.95 करोड़ की रिश्वत मांगी गई थी जबकि दूसरी बार 36 लाख की रिश्वत मांगी गई थी.

 

बस्सी ने अदालत में नौकरशाह रॉ के स्पेशल सचिव सामंत गोयल के नाम का भी जिक्र किया. बस्सी ने कहा जांच के दौरान तकनीकी निगरानी की गई और सीडीआर का भी अध्ययन किया गया, जिसमे कई खुलासे हुए. 16 अक्टूबर 2018 पर देर रात मनोज प्रसाद की गिरफ्तारी की गई थी, जिसके बाद तुरंत सोमेश परसाद ने सामंत गोयल को फोन किया. बस्सी ने कहा है कि इसके तुरंत बाद गोयल ने अस्थाना को कॉल किया था. इस दौरान सोमेश और सामंत गोयल के बीच बातचीत का पता चला. इसमें सोमेश और उनके फादर इन लॉ सनिल मित्तल की कॉल भी शामिल है.

इसमें सोमेश, सुनील मित्तल से कहते हैं ''अस्थाना तो अपना आदमी है'. मनोज, अस्थाना से 3 से 4 बार मिला है. इस मामले में केस दर्ज होने के बाअद सामंत भाई ने अस्थाना से मुलाकात की और सामनात भाई अस्थाना के बहुत करीब हैं''. बस्सी ने कहा कि "ये टेप सीबीआई के पास उपलब्ध हैं लेकिन इस बात की प्रबल संभावना है कि रिकॉर्ड बदले जा सकते हैं. इसके साथ छेड़छाड़ या इन्हे नष्ट कर दिया जा सकता है."

गौरतलब है कि एम नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक बनाये जाने के बाद कई सीबीआई अधिकारियों का तबादला कर दिया गया था. सुप्रीम कोर्ट ने वर्मा की याचिका की सुनवाई करते हुए पिछले सप्ताह कहा था राव नागेश्वर राव कोई भी नीतिगत फैसले नहीं ले जा सकते हैं. अदालत ने राव लिए गए कुछ निर्णयों की जानकारी सीलबंद कवर में सौंपने को कहा था.

राकेश अस्थाना मामले की जांच कर रहे जिन अफसरों का तबादला किया गया है उनमे डीआईजी मनीश कुमार सिन्हा, डीआईजी तरुण गौबा, डीआईजी जसबीर सिंह, डीआईजी अनिश प्रसाद, डीआईजी केआर चौरासिया, राम गोपाल और एसपी सतीश डागर का नाम शामिल है. इसके अलावा अरुण कुमार शर्मा, एक साईं मनोहर, वी मुरुगेसन और डीआईजी अमित कुमार को स्थानांतरित कर दिया गया है. ये सभी सीबीआई के विशेष डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ मामले की जांच करने वाली टीम का हिस्सा थे.

ये भी पढ़ें : अस्थाना के करप्शन की जांच करने वाले CBI अफसर ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

First published: 31 October 2018, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी