Home » इंडिया » Phulpur By Poll: Samajwadi Party's Nagendra Pratap Singh Patel leading by 1058 votes
 

फूलपुर लोकसभा उपचुनाव Live: फंस गई बीजेपी, काम कर गया माया-अखिलेश का गठबंधन!

आदित्य साहू | Updated on: 14 March 2018, 11:12 IST

यूपी की दो और बिहार एक लोकसभा और दो विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव की मतगणना शुरू हो चुकी है. इन उपचुनाव के नतीजे आज सामने आ जाएंगे. 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले उपचुनाव के नतीजे बेहद अहम माने जा रहे हैं. बड़ी खबर यह है कि फूलपुर से बीजेपी को पीछे छोड़ सपा के नागेंद्र पटेल आगे चल रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी नागेंद्र पटेल बीजेपी के कौशलेंद्र पटेल से लगभग 3700 वोटों से आगे चल रहे हैं. अगर आखिर तक सपा बढ़त बनाए रखती है तो बीजेपी की हार निश्चित है. 

गौरतलब है कि फूलपुर पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की पारंपरिक सीट है लेकिन मोदी लहर में सवार होकर पहली बार केशव प्रसाद मौर्य 2014 में लोकसभा पहुंचे थे. इसके बाद बीजेपी में केशव प्रसाद मौर्य का कद काफी बढ़ा दिया गया था. सांसद बनने के कुछ महीनों बाद ही उन्हेंं यूपी बीजेपी का अध्यक्ष बना दिया गया था. 

उनकी अध्यक्षता में ही बीजेपी ने साल 2017 के विधानसभा चुनाव में 325 सीटों के साथ धमाकेदार जीत दर्ज की थी. इसके बाद जहां योगी आदित्यनाथ को यूपी का मुख्यमंत्री बनाया गया था वहीं केशव प्रसाद मौर्य को भी ईनाम देते हुए राज्य का उपमुख्यमंत्री बना दिया गया था. इस वजह से यह सीट उन्हें छोड़नी पड़ी थी.

लेकिन अब चार साल बाद जब लोकसभा का उपचुनाव हो रहा है तो बीजेपी की हवा निकलती दिख रही है. सिर्फ चार सालों में ही फूलपुर की जनता का बीजेपी से मोहभंग होता दिख रहा है. 

हालांकि इसका एक बड़ा कारण यह भी है इस उपचुनाव में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती अघोषित रूप से एक साथ चुनाव लड़ रहे थे. अगर आखिर में ये जीत बरकरार रहती है तो साल 2019 में होने वाला आमचुनाव बीजेपी के लिए बड़ी टेढ़ी खीर साबित होने वाला है.

क्योंकि यह उपचुनाव जीतने के बाद सपा और बसपा एक साथ आ सकते हैं. जिस तरह से बीजेपी ने यूपी की 80 सीटों में से 73 सीटेें जीतकर केंद्र की सत्ता हासिल की थी. सपा और बसपा के साथ आने के बाद यह इतना आसान नहीं होगा. यूपी की राजनीति में एक कहावत है कि केंद्र की सत्ता का रास्ता यूपी से होकर जाता है. अगर भाजपा दोबारा यूपी में इतनी बड़ी मार्जिन हासिल नहीं कर पाएगी तो उसे केंद्र में सरकार बनाना कठिन हो सकता है.

First published: 14 March 2018, 11:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी