Home » इंडिया » Plasma therapy may not reduce mortality, suggests ICMR study
 

Coronavirus: प्लाज्मा थेरेपी से क्या मिल रही मदद? ICMR ने किया चौंकाने वाला खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 September 2020, 13:21 IST

कोरोना वायरस (Coronavirus) के असर के कारण भारत में 77 हजार से अधिक लोगों की जान जा चुकी है जबकि 43 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं. कोरोना वायरस की कोई वैक्सीन नहीं बनी हैं, ऐसे में लोग प्लाज्मा थेरेपी को इसके सबसे असरदार इलाज के रूप में देख रहे हैं, लेकिन अब भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन से पता चलता है कि प्लाज्मा थेरेपी कोरोना के ईलाज में कारगर नहीं है और इससे कोविड के कारण मृत्यु दर में कमी नहीं आई है. ICMR का यह अध्ययन मेड्रैक्सिव में प्रकाशित हुआ है, जो स्वास्थ्य विज्ञान के लिए एक प्रीपेयर सर्वर है.

कोरोन वायरस के मरीजों पर कॉन्वलसेंट प्लाज्मा थेरेपी का असर जानने के लिए ICMR ने यह अध्ययन किया था और उससे यह बाते सामने आई हैं. यह अध्ययन देश भर के 39 निजी और सरकारी अस्पतालों 22 अप्रैल से 14 जुलाई के बीच हुआ था. PLACID के परीक्षण परिणामों से इस बात के संकेत मिलते हैं कि 28 दिन के समय में जिन लोगों को प्‍लाज्‍मा थेरेपी दी गई और जिन लोगों को नहीं दी गई, उनके हालात में कोई अंतर नहीं है.


MedRxiv में छपी स्‍टडी के अनुसार,"कॉन्वलसेंट प्लाज्मा मृत्यु दर को कम करने और कोविड-19 के गंभीर मरीजों के इलाज करने में कोई खास कारगर नहीं है." इतना ही नहीं ICMR ने अपनी शोध में इस बात का भी दावा किया है कि दो देश-चीन और नीदरलैंड, में कॉन्वलसेंट प्लाज्मा के इस्‍तेमाल को लेकर दो स्‍टडी हुई थी और बाद में रिपोर्ट भी छपी हैं, और दोनों देशों ने इस थेरेपी को बंद करने का फैसला लिया है. हालांकि, दोनों देशों में शोध पूरा नहीं हो पाया.

कॉन्वलसेंट प्लाज्मा थेरेपी में उन लोगों के खून का उपयोग किया जाता है जो मरीज कोरोना वायरस से ठीक हो चुके हैं. कोविड -19 से रिकवर हुए लोगों द्वारा दान किए गए खून में वायरस का एंटीबॉडी होती है. इस दौरान दान किए गए खून से प्लाज्मा और एंटीबॉडी को अलग किया जाता है और उसे संक्रमित व्यक्ति में चढ़ाया जाता है ताकि वो कोरोना वायरस से लड़ सके. ICMR के शोध में दावा किया गया है कि दोनों तरह के मरीजों में मृत्यु दर में काफी कम अंतर हैं.

Corona Virus Update: दुनियाभर में अब तक दो करोड़ 80 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित, 9.08 लाख की मौत

First published: 10 September 2020, 13:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी