Home » इंडिया » PM Modi at the newly inaugurated Dhola - Sadia Bridge across River Brahamputra in Purana Sadiya, Assam
 

'ड्रैगन' को जवाब: जानिए देश के सबसे लंबे 'ढोला-सादिया' पुल की 5 ख़ूबियां

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 May 2017, 14:25 IST
पीएमओ ट्विटर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के तीन साल पूरे होने के मौके पर शुक्रवार को असम में ब्रह्मपुत्र नदी बने देश के सबसे लंबे पुल 'ढोला-सादिया महासेतु' का गुवाहाटी में उद्घाटन किया. ब्रह्मपुत्र नदी पर बने 9.15 किलोमीटर लंबे पुल का पीएम मोदी ने पैदल चलकर जायजा लिया.

इस पुल का निर्माण साल 2011 में शुरू हुआ था और परियोजना की लागत 950 करोड़ रुपये थी. पुल असम की राजधानी दिसपुर से 540 किलोमीटर दूर और अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर से 300 किलोमीटर दूर है. इस पुल की चीनी सीमा से हवाई दूरी 100 किलोमीटर से कम है. इस पुल के बारे में जानकारी देने के लिए केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एक वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें इस पुल के महत्व के बारे में बताया गया है. 

पांच ख़ास ख़ूबियां

1. ढोला-सादिया पुल की लंबाई 9.15 किलोमीटर है. ये पुल इस लिहाज से यह बांद्रा-वर्ली सी-लिंक से भी 30 फीसदी लंबा है. यह पुल असम की राजधानी दिसपुर से 540 किलोमीटर और अरुणाचल की राजधानी ईटानगर से 300 किलोमीटर दूर है.

2. इस पुल के बनने के बाद चीन की सीमा की दूरी 100 किमी से भी कम हो गई है. तेजपुर के करीब कलाईभोमोरा पुल के बाद ब्रह्मपुत्र पर अगले 375 किलोमीटर याली ढोला तक बीच में कोई दूसरा पुल नहीं है.

3. अभी तक इस इलाके में नदी के आर-पार सारे कारोबार नावों के जरिए ही होते रहे हैं. पुल बनने से सुविधा मिल गई है. ये पुल 182 खंभों पर टिका है.

4. ये पुल इतना मजबूत बनाया गया है कि 60 टन के मेन बैटल टैंक भी इससे होकर गुज़र सकते हैं.

5. 9.15 किलोमीटर लंबा पुल रिक्टर स्केल पर 8.0 की तीव्रता वाला भूकंप भी झेल सकता है. इस पुल के बनने से रोज़ाना पेट्रोल और डीजल पर खर्च होने वाले 10 लाख रुपये तक की बचत होगी.

First published: 26 May 2017, 13:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी