Home » इंडिया » PM Modi & CM Yogi Adityanath attended closing ceremony of Allahabad Highcourt's 150th foundation ceremony
 

इलाहाबाद हाईकोर्ट के स्थापना दिवस समारोह में पहुंचे मोदी-योगी, कहा-कानून से ही चलता है समाज

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2017, 13:20 IST
(एएनआई)

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 150वें स्थापना दिवस समारोह में रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचे और कार्यक्रम का शुभारंभ किया. वहां मौजूद उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बमरौली एयरपोर्ट पर पीएम मोदी को गुलदस्ता भेंटकर गर्मजोशी से स्वागत किया.

पीएम मोदी ने कहा कि बदले युग में तकनीक का जमकर प्रयोग करें. अब तक लगभग 1200 कानून खत्म हो चुके हैं. देशवासी 2022 का संकल्प लें. क्यों नहीं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पेशी की जाए. मुकदमों का बोझ कम करना जरूरी है. क्यों नहीं एसएमएस से मुकदमों की तारीख मिले.

उन्होंने आगे कहा कि मुझे देश के चीफ जस्टिस ने एक संकल्प के लिए प्रेरित किया है, हमारा लक्ष्य अब उसे पूरा करने का होगा. जिस संकल्प की तरफ उन्होंने प्रेरित किया है, उनके सपने को पूरा करने के लिए हमें जो भी करना होगा, करेंगे. आज यह समारोह नई ऊर्जा व नए संकल्प को पूरा करने का मौका बन सकता है.

बतौर सीएम, पहली बार पीएम मोदी के साथ एक ही मंच पर मौजूद योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोई भी चीज कानून से बड़ी नहीं है. इलाहाबाद हाईकोर्ट के 150 साल पूरे होने पर उन्होंने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट देश का सबसे बड़ा हाईकोर्ट है. स्थापना के वक्त यहां 6 जज थे जो अब बढ़कर 160 हो गए हैं.

 

उन्होंने आगे कहा कि कानून से बड़ा कोई नहीं होता. कानून की वजह से सुशासन और शिकायतों का निवारण होता है. सभी लोगों को न्याय देना सरकार का महत्वपूर्ण कर्तव्य है. न्याय व्यवस्था देश काल और परिस्थिति के हिसाब से खुद को बदलती रहती है. कानून से ही समाज चलता है. प्रदेश की विभिन्न अदालतों में 7 लाख मामले लंबित पड़े हुए हैं. अपने वक्तव्य के अंत में सीएम योगी ने पीएम मोदी का दिल से आभार व्यक्त किया.

समारोह में चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया जेएस खेहर, केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी मौजूद रहे. हालांकि रविवार को समारोह से पहले आयोजन स्थल पर शॉर्ट सर्किट हो गया, जिसे आनन-फानन में सुरक्षाबलों द्वारा सही कराया गया. इसके बाद समारोह स्थल पर ड्रोन से नजर रखी गई.

पीएम मोदी के आगमन को लेकर समारोह स्थल तक भारी तादाद में सुरक्षाबल तैनात किया गया. गौरतलब है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट एशिया का सबसे बड़ा और पुराना हाईकोर्ट है. इसकी स्थापना 1866 में हुई थी. 160 जजों वाले इस हाईकोर्ट से 17 हजार वकील जुड़े हुए हैं.

First published: 2 April 2017, 13:20 IST
 
अगली कहानी