Home » इंडिया » PM Modi helped a father for his son treatment, Father asked for help in a letter after selling all his property-jewellery in treatment
 

बीमार बच्चे के पिता की फरियाद पर पीएम मोदी ने की मदद, इलाज शुरू

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 January 2017, 19:10 IST

अपने 12 साल के बीमार बेटे को ठीक कराने की उम्मीद में एक पिता ने अपना सबकुछ बेच दिया. लेकिन फिर भी बेटा सही होता नहीं दिखा तो उसने आखिरी फरियाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की और पीएम ने भी उसे निराश नहीं किया और तुरंत मदद की.

यह मामला है गुजरात के अमरेली जिला निवासी पार्थ का. 12 वर्षीय पार्थ 'सबएक्यूट स्कलेरोजिंग पैनंसेफलाइटिस' नामक दिमागी बीमारी से पीड़ित है और उसके पिता उसे ठीक कराने की हर संभव कोशिश कर चुके हैं. 

पार्थ के पिता के मुताबिक करीब चार माह पहले उन्हें बेटे की बीमारी की जानकारी हुई. उन्होंने अपने जिले और फिर अहमदाबाद जाकर चिकित्सकों से मुलाकात की. हालांकि पार्थ की सेहत में कोई सुधार नहीं दिखा.

इस बीच पार्थ के इलाज के लिए उन्होंने पहले अपनी पत्नी के गहने बेच दिए और तब भी जब कुछ नहीं हुआ तो और बेहतर इलाज के लिए सारी संपत्ति बेच दी. लेकिन फिर भी बेटे की सेहत में कोई सुधार होता नहीं दिखा.

पूरी रकम खर्च होने, बेटे की तबीयत न सुधरने और हर तरफ से निराश होने के बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और स्वास्थ्य मंत्रालय को एक पत्र लिखा. पीएम मोदी पार्थ के लिए भगवान बनकर सामने आए और कुछ ही दिनों बाद उनके घर पीएम का जवाब आ गया जिसमें आश्वासन दिया गया था कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में पार्थ का मुफ्त इलाज होगा.

पार्थ के पिता कहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मदद से अब एम्स में बेटे का इलाज हो रहा है. पीएम ने न केवल इलाज और आर्थिक मदद की बल्कि नैतिक बल भी दिया. 

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक एम्स के चिकित्सक ने कहा कि इलाज के लिए कोई आर्थिक परेशानी नहीं है लेकिन अभी भी पार्थ का इलाज काफी मुश्किल है. पार्थ की स्थिति काफी गंभीर है. 

गौरतलब है कि पीएम मोदी इससे पहले भी देश में मदद की गुहार लगाने वालों के लिए मसीहा साबित हो चुके हैं. उन्होंने उन्नाव निवासी एक आठ वर्षीय बच्चे और आगरा की भी एक लड़की तैय्यबा की मदद की थी.

First published: 7 January 2017, 19:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी