Home » इंडिया » PM Modi imposed undeclared economic emergency in India: Mayawati
 

पूरे देश में आर्थिक इमरजेंसी और बंद जैसा माहौल: मायावती

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 November 2016, 17:38 IST
(फाइल फोटो )

संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने के साथ ही संसद के उच्च सदन राज्यसभा में नोटबंदी पर पूरे दिन चर्चा जारी रही. नोटबंदी के मुद्दे पर विपक्ष सरकार के खिलाफ़ एकजुट दिख रहा है. हालांकि राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपने के मुद्दे पर विपक्ष की दरार उजागर भी हो गई.

नोटंबदी के फैसले को कोसते हुए विपक्ष के कई नेताओं ने पीएम मोदी पर जोरदार हमला बोला. सीपीएम नेता सीताराम येचुरी, कांग्रेस के आनंद शर्मा और मायावती समेत कई नेताओं ने इस फैसले की आलोचना की.

नोटबंदी पर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि नोटबंदी पर फैसला लेने से पहले सरकार ने कोई तैयारी नहीं की. पूरे देश में आर्थिक इमरजेंसी और भारत बंद जैसा माहौल है. लोग परेशान हैं, कई लोगों की मौत भी हुई है. अस्पतालों में भी लोगों का बुरा हाल है. किसानों के पास बीज और खाद खरीदने तक के पैसे नहीं है. लोगों को रोजमर्रा की चीजें खरीदने में दिक्कत आ रही है.

मायावती ने कहा कि अगर पीएम मोदी ने छह महीने तक गोपनीय तैयारी की थी तो ये पूरी तैयारी कर सकते थे. लेकिन यह दावा खोखला है, क्योंकि देशभर में अफरा-तफरी का माहौल है. उन्होंने कहा कि नोटबंदी का फैसला लागू होने के बाद दो दिन तक एटीएम खराब रहे. अगर छह महीने की तैयारी की होती तो देश में ये हालात नहीं होते और 50 दिन का समय नहीं मांगना पड़ता.

मायावती ने आरोप लगाया कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता और खनन माफिया की बेटी की शादी में 500 करोड़ पानी की तरह बहाए गए पर सरकार ने कुछ नहीं किया. उनके पास यह पैसा कहां से आया जब सरकार सारी करेंसी को बैन कर चुकी है?

मोदी पर भावनात्मक ड्रामेबाजी का आरोप लगाते हुए मायावती ने कहा कि उन्होंने अपनी बूंढ़ी मां को भी नहीं छोड़ा और उन्हें भी नोट बदलने के लिए बैंक की लाइन में खड़ा कर दिया.

उन्होंने प्रधानमंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा कि ढाई साल के बाद उन्हें यकायक कैसे याद आ गया. उन्हें पता है कि पांच राज्यों में चुनाव के लिए 1.5 महीने का समय बचा है और उनकी हालत बहुत ज्यादा खराब है इसलिए ये फैसला लिया गया है. 

पीएम अपने कमजोरियो को छिपाने के लिए उन पर परदा डाल रहे है. जनता पीड़ा में है. बिना तैयारी के जो फैसला लिया गया है, आगे हाने वाले 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में जनता उन्हें सजा जरुर देगी. 

First published: 16 November 2016, 17:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी