Home » इंडिया » PM Modi inaugrated second Raisina Dialogue: Pakistan must walk away from terror
 

रायसीना डायलॉग के उद्घाटन पर बोले मोदीः पाकिस्तान को आतंकवाद से दूर होना होगा

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 January 2017, 18:54 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को नई दिल्ली के ताज पैलेस होटल में 'रायसीना डायलॉग' के दूसरे संस्करण का उद्घाटन किया. देश के महात्वाकांक्षी भू-राजनीतिक सम्मेलन में 65 देशों के 250 से ज्यादा प्रतिनिधि शामिल हुए. पीएम मोदी ने इसका शुभारंभ करते हुए  कहा कि अलग-अलग वजहों से दुनियाभर में बड़े बदलाव हो रहे हैं. ग्लोबलाइजेशन के साथ चुनौतियां भी हैं.

रायसीना डायलॉग का पहला संस्करण मार्च 2016 में हुआ था. इस दूसरे संस्करण में नई चुनौतियों और साइबर सुरक्षा समेत कई रणनीतिक मुद्दों पर मंथन होना है. पहले संस्करण की सफलता के बाद विदेश मंत्रालय और ओआरएफ (ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन) के संयुक्त तत्वावधान में इसका आयोजन किया गया है. इस बार की थीम 'दि न्यू नॉर्मलः मल्टीलेटरलिज्म विद मल्टी पोलैरिटी' रखी गई है.

उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा,  "यूक्रेन ने संयुक्त राष्ट्र में शिकायत की है कि रूस आतंकवाद को स्पॉन्सर कर रहा है. अलग-अलग वजहों से दुनियाभर में बड़े बदलाव हो रहे हैं और वैश्वीकरण के साथ चुनौतियां भी सामने आईं हैं. हम भारत को आगे बढ़ाने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर संबंधों को मजबूत करना चाहते हैं."

भारत के बारे में दुनियाभर के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, "केवल अपने फायदे की बात करना हमारी संस्कृति नहीं रही है. सबका साथ, सबका विकास केवल भारत के लिए ही नहीं बल्कि पूरे विश्व के लिए है."

पड़ोसी मुल्कों से संबंधों के बारे में पीएम मोदी बोले, "पिछले ढाई साल में हमने शांति के लिए काम किया है. अफगानिस्तान में इसकी मिसाल देखी जा सकती है. भारत और अफगानिस्तान के बीच मजबूत होते रिश्ते हमारे प्रयासों का उदाहरण हैं. पाकिस्तान अगर भारत से बातचीत करना चाहता है तो उसे आतंकवाद से दूर होना होगा. मैं लाहौर भी गया था, लेकिन शांति के रास्ते पर अकेले नहीं चला जा सकता है."

उन्होंने आगे कहा, "मैं पड़ोसियों से अच्छे रिश्ते चाहता हूं. शपथ ग्रहण के अवसर मैंने पाकिस्तान के साथ सार्क के सभी मुल्कों को आमंत्रित भी किया था. यूरोप के साथ हमनें भारत के विकास के लिए समझौते किए. हमनें स्मार्ट सिटी बनाने के लिए मदद ली. इतना ही नहीं हमनें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी विकास के लिए सहयोग पर बात की है. ग्लोबल वार्मिंग से लड़ने के लिए कड़े कदम उठाएं हैं और प्रयास शुरू कर दिए हैं."

पीएम मोदी बोले, "जो लोग हिंसा, घृणा और आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं, हमनें उन्हें अलग-थलग किया है. हम अच्छे और बुरे आतंकवाद मे भेद खत्म करके इसे धर्म से अलग करना चाहते हैं."

First published: 17 January 2017, 18:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी