Home » इंडिया » PM Modi inaugurates Shaurya Smarak in MP & said: Our force don't discuss but act
 

मध्य प्रदेश में अनोखे शौर्य स्मारक का उद्घाटन कर बोले मोदीःहमारी सेना बोलती नहीं, करके दिखाती है

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 October 2016, 20:16 IST
(फेसबुक)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में देश के अपनी तरह के पहले वॉर मेमोरियल 'शौर्य स्मारक' का उद्घाटन करने पहुंचे. इसके बाद उन्होंने हबीबगंज स्टेशन के पास बने जैन मंदिर पहुंचकर जैन आचार्य मुनि श्री विद्यासागर महाराज से मुलाकात की. 

शुक्रवार शाम को करीब पांच बजे मोदी ने लाल परेड ग्राउंड पहुंचकर पूर्व सैनिकों के परिजनों और भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. मध्य प्रदेश के राज्यपाल ओपी कोहली और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका स्वागत किया.

वैन रैंक वन पेंशन का जिक्र किया

मोदी ने कहा कि सभी सरकारों ने बढ़िया शब्दों में बस वायदे किये, बजट बनाया. लेकिन हमने अपने वादे के अनुसार वन रैंक वन पेंशन लागू किया. इसके अलावा OROP का वायदा भी हमारी सरकार ने पूरा किया. इसके अंतर्गत 5,500 करोड़ रुपये अब तक दिए जा चुके हैं. जब हमारा युवा कुछ करने को सोचता है उस वक़्त जवान अपनी जवानी सीमा पर खपा देता है. 

पहली बार भारत सरकार ने सेना से रिटायर लोगों के लिए स्किल डेवलपमेंट का काम शुरू किया है, क्योंकि जो लोग सेना से रिटायर होकर आते हैं वो बाद में देश के लोगों को स्किल दिला सकें. यमन में फंसे पांच हजार भारतीय को हमारी सेना ने बचाया, केवल भारतीय लोगों को नहीं, पाकिस्तान सहित और भी लोगों को बचाया है. फ़ौज के जवानों को सेवानिवृत होने के बाद इलाज लिए कैशलेस स्कीम रखी है. हमें फ़ौज के प्रति 24 घंटे आदर भाव रखना चाहिए. जिसकी भी कभी रास्ते में फ़ौज के लोगों से मुलाकात हो तो वे तालियों से उनका स्वागत करें.

शौर्य स्मारक के लिए एमपी सरकार का धन्यवाद

मोदी बोले कि मध्यप्रदेश सरकार को मैं विशेष धन्यवाद देता हूं क्योंकि उन्होंने शौर्य स्मारक बनावाया, क्योंकि युद्ध स्मारक तो है लेकिन शौर्य स्मारक बनाना वाकई में काबिले तारीफ़ है, हमारे वीरों का जीवन, उनका कार्य देश के लिए जीने की प्रेरणा देती है.

हमारी सेना बोलती नहीं, करके दिखाती है

मोदी ने कहा कि मुझसे कहा जाता था कि मोदी कुछ करता नहीं है. सेना कुछ करती नहीं है. मैं आपको बता देना चाहता हूं कि हमारे रक्षामंत्री भी कुछ बोलते नहीं है. सिर्फ करते हैं. 

हमारे जवान अपनी पूरी जवानी खपा देते हैं ताकि हम चैन से सो जाएं... लेकिन कई बार हम जागने के समय भी सोये हुए रहते हैं. जब देश को जागना चाहिए तब भी हम सोये हुए रहते हैं. सेना का सबसे बड़ा सशत्र उसका मनोबल होता है और ये मनोबल हथियार से नहीं सवा सौ करोड़ लोगों के उनके पीछे खड़े रहने से आता है.

हिंदुस्तान की सेना कभी पीछे नहीं हटी

मोदी ने कहा हमारे सैनिकों ने केवल शस्त्र से नहीं अपनी नैतिकता अपने आचरण से दुनिया का दिल जीतना सीखा है. मोदी ने खाड़ी देश में हुए युद्ध का भी जिक्र किया. जब-जब जरूरत पड़ी, हिंदुस्तान की सेना कभी पीछे नहीं हटी. विश्व युद्ध के समय डेढ़ लाख जवानों ने अपना बलिदान दिया था. पूरा विश्व इसे भुला दे रहा है, दुर्भाग्य से हम भी भुला दे रहे हैं. लेकिन जरूरत है इसे वक़्त-वक़्त पर याद दिलाने की. ये गांधी का देश है.

सेना जान जोखिम में डालकर जिंदगी बचाती है

मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत 'शहीदों अमर रहो' के नारे से की. उन्होंने भारतीय जवानों को नमन करते हुए कहा कि हमारे सैनिकों ने श्रीनगर में बाढ़ पीड़ितों के लिए जो मानवता दिखाई वो गजब की है. सैनिकों ने कभी ये नही सोचा कि हम उन्हें बचा रहे हैं जो हमारे ऊपर पत्थर फेंकते हैं, हमारी आंखें फोड़ देते हैं, लेकिन सैनिकों ने सब कुछ देखते हुए भी अपने मानवता को दिखाया. उन्होंने बिना भेदभाव सब को बचाया. भारतीय सेना पूरे विश्व में प्रथम पंक्ति में नजर आती है.

मानव नहीं सुपर मानव हैं मोदी: शिवराज

मंच पर पहुंचते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि शौर्य स्मारक सिर्फ एक स्मारक नहीं है, बल्कि ये शहीदों का मंदिर है, यहां हमें पता चलेगा कि कैसे हमारे वीर सपूत सरहद पर अपनी जान की बाजी लगाकर हमारी रक्षा करते हैं. हमारे सैनिक पीठ पर गोली नहीं खाते, वो सीने पर गोली झेलते हैं, हम सभी उनके कर्जदार हैं. उन सभी अमर शहीदों का जिनके लिए हम आज यहां इकट्ठा हुए हैं, ये एक कर्ज है हम सभी पर वीर सैनिकों का, हमने वीरों के लिए शौर्य स्मारक बनाए हैं. हमने शहीदों की निशानी के लिए शौर्य स्मारक बनायें हैं, ताकि जो इस मध्यप्रदेश की धरती पर आए वो यहां की माटी को छूकर प्रणाम कर सके, शहीदों के माता पिता के परिजनों को आजीवन 5 हजार रुपये की पेंशन दी जाएगी.

मध्यप्रदेश के वीर सपूतों को नमन: पर्रिकर

लाल परेड ग्राउंड पर सभा को सबसे पहले रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने संबोधित किया. पर्रिकर ने कहा कि मैं मध्यप्रदेश सरकार और देश के विजनरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद देना चाहता हूं कि उन्होंने शहीदों के सम्मान में इस शौर्य स्मारक को पूरा कराया. पर्रिकर ने कहा कि मैं उन जवानों को सैल्यूट करना चाहता हूं, जिन्होंने भारत-चीन युद्ध में अपनी जान की बाजी लगाई. ये मेरा सौभाग्य है कि मैं आज इस शौर्य सभा का सदस्य बना.

First published: 14 October 2016, 20:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी