Home » इंडिया » PM Modi Live on Mann Ki Baat 43th Episode
 

'मन की बात': PM मोदी ने पैगम्बर मोहम्मद साहब को लेकर कही ये बड़ी बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 April 2018, 11:51 IST

पीएम मोदी ने रविवार को एक बार फिर देशवासियों से 'मन की बात' की. पीएम की 'मन की बात' का ये 43वां एपिसोड था. 'मन की बात' के इस एपिसोड की शुरुआत में पीएम मोदी ने सबसे पहले कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल जीतने वाले खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दी.

मोदी ने कहा, "हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में हुए 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत सहित दुनिया के 71 देशों ने हिस्सा लिया. हमारे खिलाडियों ने देशवासियों की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए बेहतरीन प्रदर्शन किया. ये सफ़लता हर भारतीय को गर्व दिलाती है."

पीएम ने कहा, "मेडल जीतना खिलाड़ियों के लिए गर्व और खुशी की बात होती ही है. ये पूरे देश के लिए, सभी देशवासियों के लिए अत्यंत गौरव का पर्व होता है." पीएम ने कहा, "गेम्स में भाग लेने वाले एथलिट्स देश के अलग-अलग भागों से, छोटे-छोटे शहरों से आये हैं. कई बाधाओं, परेशानियों को पार करके यहां तक पहुंचे हैं. इन्होंने देश का मान बढ़ाया है."

ये भी पढ़ें-मोदी के किरदार में दिखेंगे उनके हमशक्ल, जल्द रिलीज़ होगी फिल्म

साथ हीं पैगम्बर मोहम्मद साहब को लेकर पीएम ने कहा, पैगम्बर मोहम्मद साहब कहते थे कि अहंकार ही ज्ञान को पराजित करता रहता है. पीएम ने कहा, कुछ ही दिनों में रमज़ान का पवित्र महीना शुरू हो रहा है. विश्वभर में रमज़ान का महीना पूरी श्रद्धा और सम्मान से मनाया जाता है. पैगम्बर मोहम्मद साहब की शिक्षा और उनके सन्देश को याद करने का यह अवसर है. उनके जीवन से समानता और भाईचारे के मार्ग पर चलना यह हमारी ज़िम्मेदारी बनती है.

उन्‍होंने कहा कि एक बार एक इंसान ने पैगम्बर साहब से पूछा- “इस्लाम में कौन सा कार्य सबसे अच्छा है?” पैगम्बर साहब ने कहा – “किसी गरीब और ज़रूरतमंद को खिलाना और सभी से सदभाव से मिलना, चाहे आप उन्हें जानते हों या न जानते हों”. उन्‍होंने कहा कि पैगम्बर मोहम्मद साहब ज्ञान और करुणा में विश्वास रखते थे. उन्हें किसी बात का अहंकार नहीं था. वह कहते थे कि अहंकार ही ज्ञान को पराजित करता रहता है.

इससे पहले 'मन की बात' के 42वें एपिसोड में पीएम मोदी ने किसानों और लोगों के स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दों पर अपनी बात रखी थी. पीएम कई ऐसे लोगों का जिक्र किया था, जिन्होंने समाज में अपना योगदान कुछ अलग काम करके दिया है.बता दें कि 'मन की बात' कार्यक्रम के लिए देश भर से लोग अपने सुझाव पीएम मोदी से साझा करते हैं. चुने हुए कुछ विचारों को कार्यक्रम में शामिल किया जाता है. इस कार्यक्रम का पहला प्रसारण 3 अक्टूबर 2014 को किया गया था.तब से यह लगातार जारी है.

ये भी पढ़ें-भारतीय मूल के वैज्ञानिकों ने खोजी तकनीक, सूरज की रोशनी और पानी से बनाएंगे हाइड्रोजन ईंधन

First published: 29 April 2018, 11:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी