Home » इंडिया » Discussions held on security and India's response to Uri Attack with PM Modi
 

वॉररूम मीटिंग के बाद फिर पीएम मोदी से मिले तीनों सेनाध्यक्ष, उरी का जवाब देने पर चर्चा

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 September 2016, 13:08 IST
(एएनआई)

उरी आतंकी हमले के बाद से भारत पर जवाबी कार्रवाई का दबाव है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई बार सेनाध्यक्षों और रक्षा मंत्री के साथ बैठक कर चुके हैं. शनिवार को पीएम मोदी से मिलने एक बार फिर तीनों सेनाध्यक्ष पहुंचे.

पीएम आवास सात लोक कल्याण मार्ग पर हुई इस मुलाकात में थलसेनाध्यक्ष जनरल दलबीर सिंह सुहाग, वायु सेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल अरूप राहा और नौसेना अध्यक्ष एडमिरल सुनील लांबा पहुंचे.

उरी हमले के बाद पीएम मोदी भी कह चुके हैं कि वो महज बयान नहीं दे रहे हैं कि हमले के दोषी बख्शे नहीं जाएंगे. साथ ही रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी कहा था कि प्रधानमंत्री के बयान को सामान्य बयान न माना जाए.

18 सितंबर को हुए इस हमले के बाद से भारत में पाकिस्तान को करारा जवाब देने के सुर तेज हो रहे हैं. लोगों में भारी गुस्सा है. इसी को देखते हुए खुफिया एजेंसियों के प्रमुख और सेनाध्यक्षों के साथ बैठकों का दौर चल रहा है.

बताया जा रहा है कि सात लोक कल्याण मार्ग पर हुई इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्तमान सुरक्षा हालात पर तीनों सेनाध्यक्षों के साथ चर्चा की. साथ ही पीएम ने उरी हमले के बाद पाकिस्तान को जवाब देने को लेकर संभावनाओं पर भी मंथन किया.

वॉर रूम में भी हुई थी बैठक

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उरी हमले के ठीक बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 सितंबर को साउथ ब्लॉक स्थित वॉररूम में भी तीनों सेनाध्यक्षों के साथ बैठक की थी. उरी हमले के बाद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काफी सख्त नजर आ रहे हैं.

19 सितंबर को पीएम के साथ सेनाध्यक्ष, खुफिया प्रमुखों, रक्षा मंत्री और गृह मंत्री की बैठक के बाद संकेत मिले थे कि पिछले दो साल के दौरान पहली बार पीएम मोदी इतने नाराज हुए हैं.

वहीं बताया जा रहा है कि 20 सितंबर को वॉररूम में देर रात तक चली बैठक के दौरान सेनाध्यक्षों ने अपनी तरफ से संभावित कार्रवाई को लेकर प्रजेंटेशन दिया. इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी मौजूद थे.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक रात साढ़े नौ बजे से लेकर करीब साढ़े 11 बजे तक वॉररूम में यह बैठक हुई. गौरतलब है कि वॉररूम में हर किसी को जाने की इजाजत नहीं है. पीएम के अलावा केवल सेना के कुछ बड़े अधिकारियों की ही यहां तक पहुंच होती है.

उरी में 18 सितंबर को हुए आतंकी हमले में सेना के 18 जवान शहीद हो गए थे. पीएम ने निर्देश दिए हैं कि कूटनीति के जरिए भी पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मंच पर अलग-थलग करके करारा जवाब दिया जाए.

First published: 24 September 2016, 13:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी