Home » इंडिया » PM Modi on Heart of Asia summit: strong action needed against nations supporting terrorism economically
 

हार्ट ऑफ एशिया समिट: आतंकवाद की आर्थिक मदद करने वालों के खिलाफ करनी होगी कार्रवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:44 IST

हार्ट आफ एशिया समिट के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को एक बार फिर आतंकवाद पर हमला बोला. इसके साथ ही उन्होंने आतंकवाद को पनाह देने वाले देशों के साथ आंतकवादियों की आर्थिक मदद करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई की बात कही. प्रधानमंत्री को इसमें अफगानिस्तान का भी समर्थन मिल गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमृतसर में चल रहे छठवें हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन का उद्घाटन अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के साथ किया. यहां पर प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ चल रही लड़ाई में सभी देशों को एकजुट होना होगा. 

सीमापार से चल रहे आतंकवाद की पहचान कर इनकी मदद करने वाले देश के खिलाफ कार्रवाई करनी होगी. इसके अतिरिक्त आतंकवाद को आर्थिक मदद देने वालों के खिलाफ भी कड़े कदम उठाने होंगे.

वहीं, अफगानिस्तान की मदद को लेकर प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के अफगानिस्तान के साथ करीबी संबंध हैं. अफगानिस्तान की मदद कर वहां पर शांति लाना हमारा मकसद है.

अफगानिस्तान ने भारत का जताया आभार

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति ने देश में शांति स्थापित करने की भारत की ओर से की जा रही मदद के लिए आभार जताया है. सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत के ओर से अफगानिस्तान को बिना शर्त आर्थिक सहयोग देने के लिए शुक्रिया. आतंकवाद से अफगानिस्तान की शांति को खतरा है. पूरे क्षेत्र में शांति बहाली की कोशिश की जा रही है.

अशरफ गनी ने पाकिस्तान पर साधा निशाना

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने पाकिस्तान पर निशाना साधा. आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि तालिबान ने स्वीकार किया है कि उसे पाकिस्तान से मदद मिल रही है. आतंकवाद के कारण अफगानिस्तान में पिछले साल सबसे ज्यादा मौतें हुई है.

First published: 4 December 2016, 2:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी