Home » इंडिया » Pakistan's Most Favoured Nation status: PM Modi's important meeting with MEA officials
 

पाकिस्तान के 'मोस्ट फेवर्ड नेशन' स्टेटस पर पीएम मोदी की बैठक टली

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:46 IST
(पीटीआई)

पाकिस्तान को 20 साल पहले भारत की ओर से मिले मोस्ट फेवर्ड नेशन यानी एमएफएन स्टेटस पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. इस बीच फैसले की समीक्षा के लिए पीएम मोदी की ओर से बुलाई गई बैठक टल गई है. 

इस बैठक में पाकिस्तान को दिए गए मोस्ट फेवर्ड नेशन के दर्जे की समीक्षा होनी थी. बैठक में विदेश मंत्रालय के अलावा वाणिज्य मंत्रालय के अधिकारी भी शामिल होने वाले थे. भारत ने 1996 में पाकिस्तान को एमएफएन स्टेटस दिया था.

उरी हमले के बाद से मोदी सरकार पर पाक के खिलाफ लगातार कार्रवाई का दबाव बढ़ता जा रहा है. डब्ल्यूटीओ बनने के साल भर बाद भारत ने पाकिस्तान को 1996 में एमएफएन का दर्जा दिया था. हालांकि पाकिस्तान की ओर से भारत को ऐसा कोई दर्जा नहीं दिया गया था.

पाकिस्तान को मिले एमएफएन दर्जे पर विचार के लिए पीएम मोदी की अध्यक्षता में यह बैठक आज प्रस्तावित थी. अब यह बैठक अगले हफ्ते तक के लिए टल गई है.

क्या है एमएफएन स्टेटस?

डब्ल्यूटीओ (वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन) और अंतरराष्ट्रीय व्यापार नियमों को लेकर एमएफएन (मोस्ट फेवर्ड नेशन) स्टेटस दिया जाता है. एमएफएन दर्जा दिए जाने पर दूसरा देश इस बात को लेकर आश्वस्त रहता है कि उसे व्यापार में नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा.

भारत ने 1996 में पाकिस्तान को एमएफएन का दर्जा दिया था. इसकी वजह से पाकिस्तान को ज्यादा आयात कोटा और कम ट्रेड टैरिफ मिलता है. गौर करने वाली बात यह है कि बदले में पाकिस्तान ने आश्वासन देने के बावजूद भारत को अब तक एमएफएन दर्जा नहीं दिया है.

First published: 29 September 2016, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी