Home » इंडिया » PM Modi said on BJP national executive meeting: service of poor people is like service of god
 

भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पीएम मोदी बोले गरीबों की सेवा प्रभु की सेवा

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 January 2017, 18:22 IST

भारतीय जनता पार्टी की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के अंतिम दिन शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे में पारदर्शिता लाने की जरूरत है. शनिवार को बैठक के समापन अवसर पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि पार्टी की अगली बैठक 15-16 अप्रैल को होगी.

शनिवार को नई दिल्ली स्थित भाजपा मुख्यालय में आयोजित इस बैठक के समापन अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आलोचनाएं स्वागत योग्य हैं. हमें आरोपों से घबराना नहीं है. हमारी सच्चाई और संकल्प हमें अच्छाई के रास्ते पर बढ़ाती रहेगी.

उन्होंने आगे कहा कि हमारी सरकार की प्राथमिकता है कि गरीबों की दशा सुधरे. गरीब, गरीबी को परास्त करें इसकी ताकत हमारी सरकार देगी. हमारा लक्ष्य है कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत हर तबके की बेटी को पढ़ाया जाए.

मोदी बोले कि गरीबी हमारे लिए सेवा का अवसर है. गरीब की सेवा प्रभु की सेवा के समान है. गरीब-गरीबी को वोट बैंक के चश्में से नहीं देखते हैं. भ्रष्टाचार को देश की सबसे बड़ी समस्या बताते हुए उन्होंने कहा कि नोटबंदी से कालाधन रुकेगा. नोटबंदी के फैसले को गरीबों ने दिल से स्वीकारा है. नगदी से बेनामी संपत्ति को मजबूती मिलती है.

विपक्ष पर निशाना साधते हुए पीएम ने कहा कि उन्होंने सिर्फ वादे किए जबकि हमनें ठोस काम किया. सरकार की सारी योजनाओं का लाभ सीधा गरीबों को मिला है और आगे भी सरकार गरीबों  के हित में काम करेगी. अगले महीने होने जा रहे पांच राज्यों के चुनाव में भाजपा जीत हासिल करेगी लेकिन इसके लिए बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं को फोकस करना होगा.

इस बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद रहे. बैठक के दौरान केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि नोटबंदी का फैसला काफी सफल रहा और इसके बाद भी हम सक्रिय रहे. 50 दिन बाद प्रधानमंत्री मोदी ने देश की जनता को संबोधित कर अपनी बात रखी. नोटबंदी से आतंकियों की लाइफलाइन खत्म हो गई. पीएम ने गरीबों को राहत देती कई घोषणाएं भी कीं.

वहीं, इससे पहले वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि नोटबंदी का फैसला सफल साबित हुआ और यह दीर्घकालिक अवधि में अर्थव्यवस्था के लिए फायदेमंद होगा. उन्होंने यह भी कहा इससे होम लोन की ब्याज दरें एक फीसदी तक कम हो गईं, जो इससे पहले कभी नहीं हुआ था. 

First published: 7 January 2017, 18:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी