Home » इंडिया » pm modi targate zakir naik, told like that people dengeor for society
 

पीएम मोदी: नफरत फैलाने वाले समाज के लिए नासूर

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:49 IST
(एजेंसी)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को नैरोबी यूनिवर्सिटी के छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘घृणा और हिंसा की बात करने’ वाले पूरे वैश्विक समाज के लिए बड़ा खतरा बनते जा रहे हैं.

पीएम मोदी ने युवाओं से कट्टरपंथी विचारधारा के जवाब में एक अवधारणा तैयार करने को कहा. मोदी ने अपने संबोधन में पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान पर परोक्ष हमला करते हुए कहा कि जो लोग आतंकियों को शरण देते हैं और उनका हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं, उनकी पूरे विश्व को निंदा करनी चाहिए.

प्रधानमंत्री की इस टिप्पणी को पाकिस्तान के संदर्भ में देखा जा रहा है, जहां से भारत विरोधी आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठन सक्रिय हैं. पाकिस्तानी प्रतिष्ठान के समर्थन से भारत पर हमले करते हैं.

'आतंकवाद की कोई सीमा नहीं'

मोदी ने जोर दिया, "आतंकवाद की कोई सीमा नहीं होती, कोई धर्म नहीं होता, कोई नस्ल नहीं होती और कोई मूल्य नहीं होता."

प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों से घृणा और आतंक मुक्त विश्व की वकालत करते हुए कहा कि आर्थिक विकास के लाभ का फायदा उठाने के लिए लोगों और समाज की सुरक्षा जरूरी है.

पीएम मोदी ने कहा, "घृणा और हिंसा की बात करने वाले हमारे समाज के ताने-बाने के समक्ष खतरा उत्पन्न कर रहे हैं. कट्टरपंथी विचारधारा का मुकाबला करने के लिए युवा एक जवाबी अवधारणा तैयार करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं."

प्रधानमंत्री की यह टिप्पणी ऐसे समय में महत्वपूर्ण मानी जा रही है, जब आतंकी संगठन आईएस कई स्थानों पर पांव पसार रहा है, विशेष तौर पर कट्टरपंथ के अपने अभियान के जरिये युवाओं को बहका रहा है.

गौरतलब है कि हाल ही में बांग्लादेश में एक कैफे पर छह पढे-लिखे युवकों के हमले में 22 लोग मारे गए थे, जिसमें ज्यादातर विदेशी थे.

छह हमलावर कथित तौर पर विवादास्पद मुस्लिम धर्मगुरु जाकिर नाइक से प्रभावित थे, जो पीस टीवी के जरिए विवादास्पद उपदेश देने के लिए जाने जाते हैं.

First published: 12 July 2016, 10:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी