Home » इंडिया » PM Modi: Want to tell the mann ki baat of all Indian citizens on 15th August
 

पीएम मोदीः चाहता हूं कि 15 अगस्त को लाल किले से बोलूं सभी देशवासियों के 'मन की बात'

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 July 2016, 13:59 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को रेडियो के जरिये 22वीं बार मन की बात कार्यक्रम प्रस्तुत करते हुए देशवासियों से बात की. समस्त आकाशवाणी केंद्रों, एफएम रेडियो और दूरदर्शन पर भी इसका प्रसारण किया गया. 

इस बार रियो ओलंपिक के बारे में चर्चा से शुरू हुई मन की बात में मोदी ने ओलंपिक में हिस्सा लेने जा रहे खिलाड़ियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वे जानते हैं कि आने वाले दिनों में पूरे देश में खेल का रंग हर नौजवान को उत्साह-उमंग के रंग से रंग देगा. कुछ ही दिनों में विश्व का सबसे बड़ा खेलों का महाकुंभ होने जा रहा है.

मन की बात के समापन से पहले उन्होंने कहा, "प्यारे देशवासियो, 15 अगस्त को लाल किले की प्राचीर से मुझे देश के साथ बात करने का एक सौभाग्य मिलता है, एक परंपरा है. आपके मन में भी कुछ बातें होंगी, जो आप चाहते होंगे कि आपकी बात भी लाल किले से उतनी ही प्रखरता से रखी जाए."

"मैं आपको निमंत्रण देता हूं, आपके मन में जो विचार आते हों, जिसको लगता है कि आपके प्रतिनिधि के रूप में, आपके प्रधान सेवक के रूप में मुझे लाल किले से ये बात बतानी चाहिए, आप मुझे ज़रूर लिख करके भेजिए. सुझाव दीजिए, सलाह दीजिए, नया विचार दीजिए. मैं आपकी बात देशवासियों तक पहुंचाने का प्रयास करूंगा और मैं नहीं चाहता हूँ कि लाल किले की प्राचीर से जो बोला जाए, वो प्रधानमंत्री की बात हो; लाल किले की प्राचीर से जो बोला जाए, वो सवा-सौ करोड़ देशवासियों की बात हो. आप ज़रूर मुझे कुछ-न-कुछ भेजिए."

इसके अलावा भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में तमाम मुद्दों पर चर्चा की. जानिए रविवार को हुई मन की बात की प्रमुख बातें.

  • मोदी ने कहा कि हमारी आशाएं-अपेक्षाएं तो बहुंत हैं लेकिन जो खिलाड़ी खेलने जा रहे हैं उनका हौसला बुलंद करना भी सभी भारतीयों का काम है. हम भी आने वाले दिनों में, जहां भी हों, हमारे खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए कुछ न कुछ जरूर करें. यहां तक जो खिलाड़ी पहुंचता है, वो बड़ी कड़ी मेहनत के बाद पहुंचता है. एक प्रकार की कठोर तपस्या करता है.
  • हम सभी देशवासी रियो ओलंपिक के जाने वाले सभी खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दें. देशवासी खिलाड़ियों के नाम अपनी शुभकामनाएं नरेंद्र मोदी ऐप पर भेज दें और मैं यह शुभकामनाएं उन तक पहुंचाऊंगा.
  • कुछ समय पहले हम लोग अकाल की चिंता कर रहे थे और इन दिनों वर्षा का आनंद भी आ रहा है, तो बाढ़ की ख़बरें भी आ रही हैं. राज्य सरकार और केंद्र सरकार मिलकर बाढ़-पीड़ितों की सहायता के लिए कंधे से कंधा मिला कर प्रयास कर रही है.

  • देश और दुनिया ने अब्दुल कलाम साहब को उनकी पहली पुण्यतिथि पर याद किया. इस संबंध में अंकित नाम के एक छात्र ने पूछा कि सरकार अब्दुल कलाम के सपनों को साकार करने के लिए क्या कर रही है? के जवाब में वे बोले कि तकनीकी में आए दिन बदलाव हो रहा है. टेक्नोलॉजी को पकड़ा नहीं जा सकता. उसे पकड़ने जाएंगे तब तक वह और आगे निकल जाएगी इसलिए पुरानी तकनीक को छोड़कर नई को पाने के लिए निरंतर शोध और विकास जरूरी है और इसी के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं. 
  • इस क्रम में एआईएम कार्यक्रम यानी अटल इनोवेशन मिशन तैयार किया गया है और नीति आयोग द्वारा इसे बढ़ावा दिया जा रहा है. इससे पूरे देश में नया माहौल बनेगा और नये रोजगार की संभावनाएं पनपेंगी. मोदी ने कहा कि इसके लिए स्कूलों को 10 लाख रुपए दिए जाएंगे. इस राशि का इस्तेमाल स्कूलों में शोध के लिए लैब स्थापित करने में किया जाएगा. 
  • देश की युवा पीढ़ी को जो भी समस्या नजर आती है उसके समाधान के लिए तकनीक को खोजें. सरकार समस्याओं के समाधान के लिए युवकों द्वारा खोजी गई तकनीक पर विशेष पुरस्कार देकर उन्हें प्रोत्साहित करेगी. तकनीक में बदलाव न होना ठहरे हुए पानी की तरह होता है. जब ततक नई खोज नहीं होगी तो पुरानी तकनीक ठहरे हुए पानी की तरह बेकार हो जाएगी. तकनीक आज सबसे तेजी से बदल रही है और इस बदलाव में हमें स्कूलों से ही बच्चों को शामिल करना है. स्कूलों से ही शोध और विकास का माहौल तैयार करना है.
  • बारिश के मौसम के दौरान मौसमी बीमारियों से बचाव करना भी जरूरी है. थोड़ी स्वच्छता और सतर्कता से डेंगू जैसी जानलेवा बीमारियों से बचा जा सकता है. 
  • देश में हर वर्ष 3 करोड़ महिलाएं गर्भावस्था धारण करती हैं, प्रसूति के समय कभी मां मरती है, कभी बालक मरता है, कभी दोनों मरते हैं. एक दशक में माता की असमय मृत्यु की दर में कमी तो आई है, लेकिन फिर भी आज बहुत बड़ी मात्रा में गर्भवती माताओं का जीवन नहीं बच पाता है. इसके लिए सरकार ने 'प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व' अभियान शुरू किया है. इस अभियान के तहत हर महीने की 9 तारीख को सभी गर्भवती महिलाओं की सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में निशुल्क जांच की जाएगी.
  • डिजिटल सुरक्षा पर ध्यान देना जरूरी है. आधुनिक तकनीक का प्रयोग करते हुए अज्ञात धोखेबाजों ने दो लाख रुपये ठग लिए थे. आए दिन ऐसे मामले सामने आते रहते हैं. सभी देशवासियों को चाहिए कि वे ऐसी फर्जी कॉल्स तथा ईमेल्स से सावधान रहें और कोई भी इन चक्करों में न पड़े. कोई भी संदेह होने पर तुरंत सुरक्षा के इंतजाम करें.
  • रक्षाबंधन पर समस्त देशवासी अपनी माताओं तथा बहनों को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का लाभ देकर उनका जीवन सुरक्षित करें. रक्षाबंधन का मूल उद्देश्य बहनों के जीवन तथा सम्मान की रक्षा करना है और इस बीमा योजना के द्वारा हम उन्हें ये उपहार दे सकते हैं.
  • पौधों की रक्षा करें, उनकी देखभाल करें ताकि देश में हरियाली बढ़ सके, पर्यावरण सुधर सके और इससे हम फर्नीचर के लिए बाहर से जो लकड़ी मंगवाते हैं, उसका पैसा बचा सकेंगे.
  • आजादी का आनंद तो ले रहे हैं लेकिन इसके साथ ही आजादी दिलाने वाले शहीदों को भी याद करना न भूलें. मैं आप सबसे अपील करता हूं कि इस स्वाधीनता दिवस पर आप सभी अपने आस-पास के क्षेत्रों को आजादी के रंग में रंग दें. यह केवल सरकारी कार्यक्रम न रहें वरन जन-जन का कार्यक्रम बन जाएं.  आपके पास कोई भी सुझाव है, विचार है या कुछ ऐसा है जो आप बाकी देशवासियों से शेयर करना चाहते हैं तो आप मुझे ‘NarendraModi App’ पर भेजें.
  • हर 15 अगस्त पर मुझे लाल किले से लोगों से बात करने का, उन तक अपनी बात पहुंचाने का अवसर मिलता है. इस अवसर पर मैं आपके द्वारा भेजे गए विचार और सुझावों को भी देशवासियों के साथ शेयर करूंगा.

First published: 31 July 2016, 13:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी