Home » इंडिया » pm modis mistakes in speech at world economic forum davos rahul gandhi comment pm modi said 600 crore indians voted for bjp
 

दाओस में ये बड़ी गलती कर मजाक के पात्र बने पीएम मोदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 January 2018, 9:00 IST

पीएम मोदी ने मंगलवार को वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने एक ऐसी गलती की जिसके बाद वह मजाक का पात्र बन गए. सोशल मीडिया से लेकर कई न्यूज वेबसाइटों ने उनके खिलाफ तंज कसा. उन्होंने तेजी से ट्रोल किया जाने लगा.

दरअसल, पीएम मोदी मंगलवार को वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में भाषण दे रहे थे. उन्होंने हिंदी में अपने भाषण की शुरुआत की. अपने ऐतिहासिक भाषण के शुरुआत में पीएम मोदी ने 1997 से 2018 के बीच हुए बदलावों का जिक्र किया. उन्होंने न्यू इंडिया 2022 की तस्वीर रखी और सभी देशों से वैश्विक चुनौतियों का मिलकर सामना करने की अपील की.

 

 

इस दौरान पीएम मोदी से एक बड़ी चूक हो गई. पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा, "देश के 600 करोड़ मतदाताओं ने साल 2014 में 30 सालों में पहली बार किसी एक राजनैतिक पार्टी को पूर्ण बहुमत दिया." इसके बाद पीएम मोदी को ट्विटर पर और अन्य सोशल मीडिया वेबासाइटों पर ट्रोल किया जाने लगा.

गौरतलब है कि भारत की जनसंख्या लगभग 125 करोड़ है और साल 2014 के आम चुनाव के दौरान भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर देश में केवल 83.41 करोड़ वोटर थे, जिनमें से 55.38 करोड़ वोटरों ने अपने वोट के अधिकार का प्रयोग किया था.

पीएम मोदी द्वारा यह आंकड़ा गिनाये जाने के बाद लोगों ने उन पर तरह तरह की प्रतिक्रिया दी. उनके विरोधियों ने तो उन्हें भांग के पकौड़े खाकर भाषण देने वाला तक कह दिया. यहां तक कि भाजपा के समर्थकों ने भी पीएम मोदी का जमकर मजाक उड़ाया.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मोदी की इस गलती पर चुटकी ली. राहुल ने मोदी की स्पीच के ठीक बाद ट्वीटर पर लिखा, 'भारत की कुल जनसंख्या इस समय 134 करोड़ के करीब है और विश्व की लगभग 750 करोड़. साहेब दावोस में बोल गए 2014 में भारत में 600 करोड़ लोगों ने वोट किया. क्या यह नागपुरी पकोड़े खाने के साइड इफेक्ट हैं?

 

राहुल गांधी ने पीएम मोदी के भाषण में एक और गलती बताई. अमेजन कंपनी की स्थापना को लेकर राहुल गांधी ने पीएम पर तंज कसा. राहुल ने लिखा, 'साहेब बस करो भारत को कितना शर्मिंदा करोगे. अमेजन कंपनी की स्थापना 1994 में हुई थी और लोग आसानी से उसे एक्सेस कर लेते थे. साहब यह चाय-पकोड़े का टीला नहीं है.'

गौरतलब है कि स्विटजरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की सालाना बैठक शुरू हो गई है. उद्घाटन समारोह में पीएम मोदी ने बैठक को संबोधित किया. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में जहां ग्लोबल वार्मिंग और आतंकवाद जैसे मुद्दों पर चिंता जाहिर की. वहीं भारत में हो रहे विकास कार्य और देश की आर्थिक प्रगति की ओर भी दुनिया का ध्यान खींचा.

First published: 24 January 2018, 9:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी