Home » इंडिया » PM Narendra Modi launches news scheme in Mahu on the eve of Ambedkar's birth anniversary
 

बाबा साहब की बदौलत बन पाया पीएम: मोदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2016, 17:02 IST

बाबा साहब अंबेडकर की 125वीं जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी जन्मस्थली महू से नई योजना का आगाज किया. प्रधानमंत्री ने ग्राम उदय से भारत उदय अभियान की यहां शुरुआत की.

इससे पहले पीएम मोदी विशेष विमान के जरिए इंदौर के अहिल्याबाई एयरपोर्ट पहुंचे. यहां मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनकी अगवानी की. पीएम मोदी ने सबसे पहले अंबेडकर स्मारक पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी.

इसके साथ ही मोदी देश के ऐसे पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं जो अंबेडकर स्मारक स्थल पर पहुंचे. इससे पहले देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू भी महू आए थे. लेकिन उस वक्त बाबा साहब का स्मारक नहीं बना था.

पढ़ें:नरेंद्र मोदी: बाबा साहेब दलितों के नहीं, पूरे राष्ट्र के मसीहा हैैं

बाबा साहब के स्मारक पर सियासत !

पीएम मोदी ने महू में एक जनसभा को भी संबोधित किया. पीएम ने कहा कि बाबा साहब ने कहा था कि संगठित बनो. टेक्नोलॉजी में बेहतरी के लिए हमें काम करना है.

भारत सरकार के खजाने से एक गांव के लिए 75 लाख की योजना उसके खाते में आती है. गांवों में सब कुछ है पर सही दिशा दिखाने की जरूरत है. पीएम ने कहा कि इंदौर जिले में सबको खुले में शौच जाने से मुक्त करा दिया है ये बहुत अच्छी बात है.

मोदी ने कहा, " सरकारें बहुत आईं, बाबा साहब की मृत्यु के 60 साल के बाद उनका स्मारक बनाने से किसी ने रोका है क्या, हम कर रहे हैं तो परेशानी हो रही है. " मोदी ने कहा कि अगर बाबा साहब सामान्य इंसान होते तो उनकी कलम से संविधान के अंदर जहर का एक बिन्दु निकलता लेकिन वो जहर पी गए.

PMO TWEET

ग्राम उदय से भारत उदय का आगाज

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा, " एक ऐसा व्यक्ति जिसकी मां बचपन में बर्तन साफ करती हो, वो बेटा अगर प्रधानमंत्री बन पाया तो उसका श्रेय बाबा साहब को जाता है. "

baba tweet

साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बीजेपी ने हमेशा दलितों का साथ दिया है. दलितों को आगे बढ़ाने के लिए वो दृढ़संकल्पित हैं. ग्राम उदय से भारत उदय अभियान पूरे देश में 14 अप्रैल से 24 अप्रैल तक चलाया जाएगा.

PMO TWEET 2

पीएम मोदी ने कहा कि कहीं से भी अंबेडकर के अंदर बदले का भाव नहीं था. इससे बड़ी क्या महानता हो सकती है. लेकिन ऐसे महापुरुष को ओझल कर दिया गया है. हम उस रास्ते पर चलने के लिए आए हैं.

आज ग्राम उदय से भारत उदय की शुरुआत हो रही है. हम अपने गांव में बदलाव लाएं यही बाबा साहब को सच्ची श्रद्धांजलि होगी. जय भीम, जय भीम, जय भीम.

पढ़ें:जब हम अंबेडकर को याद करते हैं

First published: 14 April 2016, 17:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी