Home » इंडिया » Pm Narendra Modi's gives shortest speech from the Red Fort on 71th Independence Day in the last four years on tuesday.
 

जानिए मोदी ने लाल क़िले से अपना सबसे छोटा भाषण क्यों दिया?

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2017, 10:48 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 71वें स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र के नाम अपना चौथा संबोधन दिया. इससे पहले पीएम मोदी ने मंगलावार को चौथी बार लाल किले से तिरंगा फहराया. लाल किले से देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृष्ण जन्माष्टमी भी जिक्र किया.

मोदी ने कहा आज पूरा देश आजादी के पर्व के साथ जन्माष्टमी का पर्व भी मना रहा है. मेरे सामने बाल कन्हैया भी बैठे हैं. सुदर्शन चक्र धारी मोहन से लेकर चरखाधारी मोहन तक हमारी सांस्कृतिक ऐतिहासिक विरासत के हम सभी धनी हैं.

देश की आजादी के लिए जिन-जिन लोगों ने अपना योगदान दिया है, यातनाएं झेली हैं, बलिदान दिया है त्याग और तपस्या की परिकाष्ठा की है ऐसे सभी महानुभावों और माता-बहनों को लाल किले की प्राचीर से, 125 करोड़ भारतीयों की तरफ से शत-शत नमन.

मोदी ने  दिया सबसे छोटा भाषण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश के स्वतंत्रता दिवस समारोह के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से चार साल में अब तक का सबसे छोटा भाषण दिया.

मोदी ने पिछले माह अपने रेडियो संबोधन 'मन की बात' में कहा था कि उन्हें लोगों के शिकायत भरे पत्र मिले थे कि उनके स्वतंत्रता दिवस के भाषण बहुत लंबे होते हैं. मोदी ने जुलाई में 'मन की बात' में वादा किया था कि उनका इस बार का स्वतंत्रता दिवस भाषण छोटा होगा.

मोदी ने अपने वादे पर कायम रहते हुए इस बार सिर्फ 54 मिनट का भाषण दिया, जो 2014 में उनके प्रधानमंत्री बनने के बाद से लेकर अब तक उनका सबसे छोटा भाषण है. उन्होंने 2014 में 65 मिनट, 2015 में 86 मिनट और 2016 में 94 मिनट का भाषण दिया था.

First published: 15 August 2017, 11:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी