Home » इंडिया » PM Narendra Modi speaks at the conference on Islamic Heritage program
 

मुस्लिम धर्मगुरुओं के बीच बोले मोदी- दरिंदगी करने वाले अपने ही मजहब का नुकसान कर रहे हैं

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 March 2018, 12:29 IST

जॉर्डन के किंग अब्दुल्ला द्वितीय भारत की यात्रा पर आए हैं. उनका राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत किया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनका स्वागत किया. स्वागत में उन्हें पारंपरिक गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इसके बाद विज्ञान भवन में भारत-इस्लामिक हेरिटेज कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने किंग अब्दुल्ला के सामने कई बड़ी बातें कहीं.

विज्ञान भवन में आयोजित इस्लामिक हेरिटेज के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जॉर्डन नरेश की इस्लाम की पहचान बनाने में अहम भूमिका है. जॉर्डन का नाम संतों और पैंगबरों की आवाज बनकर दुनिया भर में गूंजा है.

 

विज्ञान भवन में पीएम मोदी नेे कहा कि भारत ने दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का संदेश दिया. इसके अलावा भारत ने पूरी दुनिया को एक परिवार का संदेश दिया. उन्होंने कहा कि विरासत की विविधता पर हमें गर्व है. तो विविधता की विरासत पर भी हमें गर्व है.

उन्होंने कहा कि इंसानियत के खिलाफ दरिंदगी करने वाले अक्सर भूल जाते हैं कि वह उसी मजहब का नुकसान कर रहे हैं, जिसका वह होने का दावा करते हैं. भारत की आबोहवा में सभी धर्मों ने सांस ली है. उन्होंने कहा कि जॉर्डन नरेश की मौजूदगी गर्व का विषय है.

 

आतंकवाद को लेकर उन्होंने कहा कि विश्व में अनिश्चितता और आशंका आतंकवाद के कारण बढ़ा है. आतंक के खिलाफ मुहिम किसी धर्म या पंथ के खिलाफ नहीं है. उन्होंने कहा कि मंदिर में दिया जलता हो, मस्जिद में सजदा पर हमें गर्व है. साथ ही गुरुद्वारे में सबद, चर्चा में प्रार्थना पर हमें गर्व है.

 

उन्होंने कहा कि परंपरा की विविधता हमें संबल देती है. दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में समानता, विविधता, सामंजस्य है. सबकी तरक्की के लिए सबको साथ लेकर चलना है. भारत की विविधता ही इसकी शक्ति भी है. देश की खुशहाली से हर एक की खुशहाली जुड़ी हुई है.

कार्यक्रम में जॉर्डन के किंग अब्दुल द्वितीय बिन-अल-हुसैन के साथ कई मुस्लिम धर्म गुरु भी मौजूद थे.

First published: 1 March 2018, 12:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी