Home » इंडिया » PM Narendra Modi to tell KP Oli If China builds your dams, India won’t buy energy
 

पीएम मोदी की नेपाली पीएम को दो टूक- चीन से डैम बनवाने पर नहीं खरीदेंगे बिजली

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 April 2018, 12:34 IST

भारत और चीन के बीच नेपाल हिमालय में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए लड़ाई तेज हो गई है. भारत दौरे पर आने के बाद नेपाली प्रधानमंत्री केपी ओली को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नसीहत दे सकते हैं. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक पीेएम मोदी नेपाली प्रधानमंत्री कोली से कह सकते हैं कि चीन को पसंद करते हुए आप बांध परियोजनाओं बनवाइए लेकिन तब भारत उनसे बिजली नहीं खरीद पाएगा.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, नेपाल अपने यहां स्थापित की जाने वाली कई विद्युत परियोजनाओं का ठेका चीन को देने की तैयारी में है. अपनी अन्य आधारभूत संरचनाओं के निर्माण के मामले में भी नेपाल की मौज़ूदा ओली सरकार का यही रुख़ है. सूत्रों के अनुसार,भारत इसी को लेकर अपनी चिंता स्पष्ट करना चाहता है. ख़ासकर बिजली परियोजनाओं को लेकर भारत की चिंता है.

सूत्र बताते हैं कि वार्ता के दौरान ओली को मोदी स्पष्ट शब्दों में कहने वाले हैं कि नेपाल अपनी जितनी चाहे उतनी बिजली परियोजनाओं के निर्माण की ज़िम्मेदारी चीन को सौंप सकता है. भारत को इसमें कोई ऐतराज़ नहीं है. लेकिन इसके साथ ही उसे यह अपेक्षा भी नहीं करनी चाहिए कि चीन के सहयोग से नेपाल में स्थापित होने वाली परियोजनाओं से पैदा हुई बिजली भारत खरीदेगा. केंद्र सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी इसकी पुष्टि करते हैं.

अधिकारी का कहना है कि हम भूटान में कई जल-विद्युत परियोजनाएं स्थापित कर रहे हैं. वहां बांध बना रहे हैं. उनसे पैदा होने वाली अतिरिक्त बिजली भी हम खरीदेंगे. यही फॉर्मूला नेपाल के साथ भी अपनाया जा सकता है. लेकिन यह नहीं हो सकता कि बांध का निर्माण चीन करे और बिजली भारत ख़रीदे. यही स्पष्ट राजनयिक संदेश हम उच्चस्तरीय वार्ता के दौरान अपनी तरफ़ से नेपाली प्रधानमंत्री को देना चाहते हैं. इस पर फ़ैसला उन्हें करना है.

गौरतलब है कि नेपाल में पहली बार लेफ्ट की सरकार बनी है. नेपाल में लेफ्ट की जीत के बाद से ही ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि काठमांडू का झूकाव पहली बार बीजिंग की तरफ ज्यादा देखने को मिलेगा. ओली ने अपने चुनावी अभियान के दौरान भारत पर भी जमकर हमला बोला था. 

नेपाल में प्रचंड बहुमत से सरकार बनाने के बाद केपी ओली अपनी पहली विदेश यात्रा पर आज (6 अप्रैल) से भारत आ रहे हैं. अपने 53 प्रतिनिधियों के साथ भारत आ रहे केपी ओली 6 से 8 अप्रैल तक नई दिल्ली में रहेंगे. भारत आने से पहले ओली ने कहा था कि वे ऐसे किसी भी समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करेंगे, जो नेपाल के गौरव और अस्मिता के खिलाफ होगा.

पढ़ें- सलमान पर नापाक बयान देने वाले पाक मंत्री हुए ट्रोल, लोग बोले सैफ हिन्दू हैं क्या?

केपी ओली ने कहा था कि इस दौरे पर उनका फोकस भारत-नेपाल के बीच पुराने समझौतों पर होगा, ना कि किसी नए समझौते पर. ओली ने कहा कि मैं ऐसे किसी भी समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करूंगा जो हमारे मुल्क हित के खिलाफ हो. उन्होंने कहा, "हम भारत के साथ विश्वास कायम रखना चाहते हैं और द्विपक्षीय संबंधों में किसी भी प्रकार के संदेह को स्पष्ट करना चाहते हैं."

First published: 6 April 2018, 12:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी