Home » इंडिया » PNB Scam: nirav modi writes letter to pnb officials claims pnbs actions overzealous says pnb has closed all its options of recovering
 

नीरव मोदी की धमकी- 'PNB की वजह से मेरा धंधा चौपट हुआ, नहीं लौटाऊंगा पैसे'

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 February 2018, 8:50 IST

देश के दूसरी सबसे बड़े सरकारी बैंक पीएनबी में सबसे बड़े फ्रॉड मामले में आरोपी हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने पीएनबी मैनेजमेंट को लेटर लिखा है. नीरव ने पीएनबी को पैसे न चुकाने की धमकी दी है. उसने कहा कि पीएनबी की जल्दबाजी की वजह से मेरा धंधा चौपट हुआ है. इस वजह से पीएनबी ने मुझसे पैसे रिकवरी के सारे रास्ते बंद कर दिए हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, नीरव ने कहा, "मामले को उजागर कर पीएनबी ने रिकवरी के सारे रास्ते बंद कर लिए. बैंक की जल्दबादी में मेरा ब्रांड और धंधा चौपट हो गया.'' नीरव ने दावा किया कि बैंक ने जितनी देनदारी बताई हैं, उतनी है नहीं. यह 5000 करोड़ से भी कम है. उसने अपने खातों में पड़ी रकम से 2200 कर्मचारियों को सैलरी देने की इजाजत भी मांगी.

नीरव मोदी ने आगे लिखा ''मेरे भाई का नाम गलत तरीके से जोड़ा गया है. मेरी तीन फर्म्स और दूसरे ऑपरेशंस से उसका कोई लेना-देना नहीं है. मेरी पत्नी भी मेरे किसी बिजनेस से नहीं जुड़ी है, उसका नाम भी गलत तरीके से जोड़ा गया है. मेरे अंकल का नाम भी गलत तरीके से जोड़ा गया है, क्योंकि उनका खुद का बिजनेस है और उन्हें आपके बैंक से मेरे लेन-देन के बारे में जानकारी नहीं है. मैंने जो भी किया है, उसके नतीजे का सामना मैं करूंगा."

 

नीरव मोदी ने लिखा "13 फरवरी को मैंने पैसा लौटाने का ऑफर दिया था। लेकिन, देनदारी वसूलने की जल्दबाजी में उठाए गए कदमों ने मेरे ब्रांड और बिजनेस को तबाह कर दिया। ऐसे में आपने खुद कर्ज वसूलने के अवसरों को सीमित कर लिया है।"

नीरव ने देनदारी के पीएनबी द्वारा दिए आंकड़ों पर लिखा, "आप जानते हैं कि ये (11 हजार करोड़ से ज्यादा की देनदारी) पूरी तरह गलत है और नीरव मोदी ग्रुप की देनदारी इससे कहीं कम है. आपकी शिकायत फाइल होने के बाद भी भलमनसाहत के चलते मैंने आपको लिखा था कि कृपया मुझे फायर स्टार ग्रुप को बेचने या उसकी कीमती संपत्तियों को बेचने की इजाजत दें और अपनी देनदारी रिकवर करें. केवल फायर स्टार ग्रुप से ही नहीं, बल्कि बाकी तीन फर्म्स से भी."

 

उसने लिखा "भारत में मेरे बिजनेस की वैल्यू करीब 6,500 करोड़ रुपए है और इससे बैंक का कुछ कर्ज लौटाया जा सकता था. लेकिन, अब ये मुमकिन नहीं है, क्योंकि मेरे सारे अकाउंट्स फ्रीज हैं और संपत्तियां सील कर दी गई हैं. ईडी और सीबीआई ने जो कीमती सामान और संपत्तियां जब्त किया है, उनकी कीमत 5649 है, ये और दूसरी संपत्तियों से बैंक की सारी देनदारी चुकाई जा सकती थी, लेकिन ऐसा लगता है कि ये दौर अब गुजर गया है."

वहीं सीबीआई ने सोमवार देर शाम पीएनबी के 3 और मैनेजरों को गिरफ्तार किया. 11,356 करोड़ के इस बैंक फ्रॉड में नीरव समेत उनके रिश्तेदार और गीतांजलि जेम्स के मालिक मेहुल चौकसी भी आरोपी हैं. इन लोगों पर पीएनबी के अफसरों से मिलिभगत कर फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में कई हजार करोड़ की रकम ट्रांसफर करने का आरोप है.

First published: 20 February 2018, 8:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी