Home » इंडिया » PoK 'PM' Farooq haider khan says Pakistan to open corridor in kashmir and PoK
 

PoK के 'PM' ने लगाई पाकिस्तान से गुहार, कश्मीर और पाक अधिकृत कश्मीर को जोड़ने की तैयारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 December 2018, 9:38 IST

पाक अधिकृत कश्मीर के 'पीएम' राजा फारूक हैदर खान ने पकिस्तान सरकार से एक खास मुद्दे को लेकर प्रस्ताव दिया है. हैदर खान ने गुजारिश की है कि भारत पाकिस्तान के बीच हुए शुरू हुए करतारपुर कॉरिडोर की तरह ही एक गलियारे को कश्मीर के धार्मिक स्थलों से जोड़ने के लिए खोला जाए. उन्होंने कहा कि करतारपुर की तर्ज पर सिखों, हिंदुओं और बौद्धों के लिये यहां शार्मिक स्थल खोला जाए.

एक कार्यक्रम एक दौरान हैदर ने कहा, ''पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में हिंदू, सिख और बौद्धों के करीब 600 तीर्थस्थल हैं जिनमें शारदा और अली बेग भी शामिल हैं.'' खान ने बताया कि अधिकारी इन जगहों के जीर्णोद्धार के लिए कोई प्लान बनाने में लगे हुए हैं. उनकी योजना है कि इन स्थलों के जीर्णोद्धार से जम्मू कश्मीर के तीर्थयात्रियों के लिए ये जगहें सुगम हो जाएंगी.

दोनों देशों के बीच शांति का हवाला

हैदर ने कहा कि अगर ऐसा कोई गलियारा खोला गया तो ये न केवल राज्य के पर्यटन को बढ़ाएगा बल्कि इससे दोनों देशों (भारत और पाकिस्तान) के बीच एक विशवास का रिश्ता कायम होगा. हैदर ने उम्मीद जताई कि अगर दोनों देश की सरकार आपस में विश्वासपूर्ण संबंधों की पैरवी करें को दोनों देशो के बीच के तनाव को शांतिपूर्ण तरीके से हल किया जा सकेगा.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान भी चाहता है BJP की हार, चुनावी नतीजों को लेकर बॉर्डर पार भी हलचल

आयोजन में हैदर ने कहा, ''मैंने पाकिस्तान सरकार से कहा है कि जिस तरह से हाल ही में पंजाब में सिखों के लिये करतारपुर गलियारा खोला गया है उसी तरह पीओके और जम्मू कश्मीर के बीच सभी परंपरागत मार्गों को धार्मिक यात्रियों के लिये खोला जाए.''

ये भी पढ़ें- इस तरीके से पाकिस्तान भारत में भेजता है खूंखार आतंकी, छापेमारी में हुआ खुलासा

गौरतलब है क‍ि करतारपुर कॉरिडोर खोलने को लेकर भारत की सुरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े हुए थे. इसे पाकिस्तान सेना की साजिश भी बताया जा रहा था. पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था कि ये कॉरिडोर एक तरह से फिर से पंजाब में खालिस्तान मूवमेंट को बढ़ावा देने के लिए एक साजिश है. ऐसे में एक और कॉरिडोर की बात भारत के लिए चिंता का विधाय हो सकती है.

First published: 16 December 2018, 8:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी