Home » इंडिया » prabhakar shrotriya pass away on age of 76
 

हिंदी के वरिष्ठ साहित्‍यकार प्रभाकर क्षोत्रिय का निधन

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 September 2016, 12:08 IST
(एजेंसी)

हिंदी के प्रख्यात ओलाचक और साहित्यकार प्रभाकर क्षोत्रिय का 76 वर्ष की आयु में निधन हो गया. उनका निधन गुरुवार की रात दिल्‍ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल में हुआ. क्षोत्रिय जी लंबे समय से बीमार चल रहे थे. उनका अंतिम संस्‍कार हरिद्वार में किया जाएगा. प्रभाकर क्षोत्रिय ने हिंदी की कई प्रतिष्‍ठित साहित्‍यिक पत्रिकाओं का संपादन किया. क्षोत्रिय के निधन से हिंदी साहित्‍य जगत को गहरा धक्का पहुंचा है.

डॉ. प्रभाकर क्षोत्रिय का जन्‍म मध्‍य प्रदेश के जावरा में 19 दिसंबर 1938 को हुआ था. हिंदी पट्टी में उनकी गिनती आलोचक और नाटककार के तौर पर होती थी. हिंदी आलोचना के अलावा उन्होंने साहित्य और नाटकों को भी एक नई दिशा प्रदान की.

क्षोत्रिय जी सबसे पहले मध्य प्रदेश साहित्य परिषद के सचिव एवं 'साक्षात्कार' व 'अक्षरा' के संपादक रहे हैं. इसके अलावा वे भारतीय भाषा परिषद के निदेशक एवं 'वागर्थ' के संपादक पद पर कार्य करने के साथ-साथ भारतीय ज्ञानपीठ नई दिल्ली के निदेशक पद पर भी रहे.

प्रभाकर क्षोत्रिय बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी रहे और उन्‍होंने साहित्य की लगभग सभी विधाओं में अपनी कलम चलाई, लेकिन हिंदी साहित्‍य में आलोचना, निबंध और नाटक के क्षेत्र में उनका विशेष योगदान रहा.

उनकी प्रमुख आलोचनात्‍मक कृतियों में  'सुमनः मनुष्य और स्रष्टा', 'प्रसाद का साहित्यः प्रेमतात्विक दृष्टि', 'कविता की तीसरी आख', 'संवाद', 'कालयात्री है. इसके अलावा कविता' संग्रह में 'रचना एक यातना है', 'अतीत के हंसः मैथिलीशरण गुप्त', जयशंकर प्रसाद की प्रासंगिकता'. 'मेघदूतः एक अंतयात्रा, 'शमशेर बहादुर सिंह', 'मैं चलूं कीर्ति-सी आगे-आगे', 'हिंदी - कल आज और कल' प्रमुख कृतियां रहीं.

इसके साथ ही हिंदीः दशा और दिशा', 'सौंदर्य का तात्पर्य', 'समय का विवेक', 'समय समाज साहित्य' भी प्रमुख कृतियां रहीं. जबकि नाटक 'इला', 'साच कहू तो...', 'फिर से जहापनाह', जैसा अविस्मरणीय निबंधों को भी लिखा.

क्षोत्रिय जी ‘वागर्थ’, साक्षात्कार‘ और ‘अक्षरा’ जैसी प्रमुख साहित्यिक पत्रिकाओं के लंबे समय तक संपादक रहे. इनके अलावा उन्होंने भारतीय ज्ञानपीठ की पत्रिका ‘नया ज्ञानोदय’ का भी लंबे समय तक संपादन किया.

First published: 16 September 2016, 12:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी