Home » इंडिया » pradhan mantri awas yojana: pm modi promised housing for all, only 8 percent house completed till now
 

हकीकत: प्रधानमंत्री आवास योजना में 3 साल में हुआ सिर्फ 8 फीसदी काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 March 2018, 14:38 IST

केंद्र की सत्ता में आते ही भाजपा सरकार ने देश के लोगों से काफी सारे वादे किए थे. लेकिन आज जब इस सरकार के चार साल पूरे होने वाले हैं और अगले साल आम चुनाव हैं तो किए गए वादों पर सवाल किए जाने लगे हैं. मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत देश के सभी लोगों को 2022 तक घर देने की बात कही थी.

अब इस योजना के तीन साल पूरे होने वाले हैं लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इस योजना के तहत शहरी इलाकों में सिर्फ 8 प्रतिशत काम ही पूरा हो पाया है. मोदी सरकार का लक्ष्य शहरी इलाकों में लगभग 40 लाख मकानों का था लेकिन सिर्फ तीन लाख मकान ही बन पाए हैं.

शहरी मामलों और ग्रामीण विकास मंत्रालयों की वेबसाइट पर देखने के बाद पता चलता है कि इस साल 5 मार्च तक मंत्रालयों ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 8341 प्रोजेक्ट को जोड़ा था जिनमें 40.6 लाख मकानों का निर्माण किया जा रहा है. इसी वेबसाइट पर जानकारी है कि अभी तक सिर्फ 3.4 लाख मकानों का निर्माण कार्य पूरा हो पायाा है.

पढ़ें- Rajya Sabha Elections 2018: बसपा को हराने के लिए अमित शाह ने अपनायी ये रणनीति

जानकारी यह भी है कि अभी 18 लाख मकानों का काम चल रहा है लेकिन यह काम किस स्टेज में है इसकी जानकारी नहीं दी गई है. अगर यह योजना पूरा हो भी जाता है तो भी कुल योजना के सिर्फ 44 प्रतिशत मकान पूरे हो पाएंगे.

हालांकि अगर ग्रामीण इलाकों की बात करें तो वहां स्थिति थोड़ी बेहतर है, ग्रामीण इलाकों में अब तक करीब 30 प्रतिशत या 28.8 लाख मकानों का निर्माण हो चुका है. हालांकि ग्रामीण विकास मंत्रालय ने योजना लागू होने के 15 महीनों में करीब 95 लाख मकान बनाने की बात कही थी.

प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री मोदी ने 25 जून, 2015 को की थी. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर साल 2022 में शहरी इलाकों में रहने वाले गरीबों के लिए करीब 2 करोड़ मकान बनाए जाएंगे.

पढ़ें- नीतीश का BJP पर निशाना- समाज को बांटने वालों को नहीं करूंगा बर्दाश्त

वहीं ग्रामीण इलाकों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत 20 नवंबर, 2016 को की गई थी. इसके तहत साल 2019 तक देश के ग्रामीण इलाकों में 1 करोड़ नए मकान बनाने का लक्ष्य तय किया गया था. वेबसाइट से पता चलता है कि इनमें से 51 लाख मकान मार्च 2018 के अंत तक तैयार हो जाएंगे. हालांकि, अभी तक सिर्फ 27.7 लाख मकान ही तैयार हो पाए हैं.

First published: 22 March 2018, 14:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी