Home » इंडिया » Pragya Singh Thakur MP from Bhopal say I wan not elected to clean toilets and drains
 

प्रज्ञा ठाकुर बोलीं- मैं नाली और शौचालय साफ करने के लिए सांसद नहीं बनी

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 July 2019, 9:21 IST

भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने एक बयान देकर विवाद शुरु कर हो गया है. भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने एक बयान देकर विवाद शुरु कर दिया है. रविवार को एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि वह नाली और शौचालय साफ करने के लिए सांसद नहीं बनी हैं. उनके इस बयान को पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी योजना 'स्वच्छ भार मिशन' के खिलाफ माना जा रहा है.

क्योंकि पीएम मोदी ने अपने पहले कार्यकाल के दौरान साल 2014 में 2 अक्टूबर को स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की थी. तब पीएम मोदी ने खुद ही झाड़ू लगाकर लोगों को स्वच्छता का संदेश दिया था. लेकिन बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ने इस बात से बिल्कुल इनकार कर दिया कि वह कहीं पीएम मोदी या तमाम अन्य नेताओं की तरह झाड़ू लगाएंगी.

बता दें कि साल 2014 में जब पीएम मोदी ने झाड़ू लगाई तो कई राजनेता भी इसी कड़ी में शामिल गए. इसके साथ ही कई फिल्म अभिनेता और जिलाधिकारी भी सफाई अभियान में भाग लेते देख गए. लेकिन बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिहं ठाकुर का ये बयान शायद ये दिखाता है कि प्रज्ञा सिंह ठाकुर अपने संसदीय क्षेत्र के लोगों की सेवा के लिए नहीं बल्कि उनसे अपनी सेवाएं लेने और वहां सिर्फ राज करने के उद्देश्य से सांसद बनी हैं.

दरअसल, साध्वी प्रज्ञा ने रविवार को बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए, एक घटना का जिक्र किया. जिसमें सीहोर के किसी कार्यकर्ता का फोन उन्हें आया था. साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि, ''आपको एक फोन नंबर सहजता से मिल गया और आपने (मुझे) लगा दिया. हम किस परिस्थिति में हैं? क्या कर रहे हैं ?.....'' उन्होंने कहा, ''संसद सत्र के बाद उन चीजों को क्रियान्वित करने के लिए हम यहां रहेंगे. आपकी सुनेंगे. जो भी समस्या है हम वहां जाकर समाधान कराएंगे. जो धनराशि हमको मिलेगी, आप लोगों के लिए मिलती है, खर्च आप लोगों पर ही करना है. यही होना है ना.''

उसके बाद बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि, ''तो ध्यान रखो, हम नाली साफ करने के लिए नहीं बने हैं. ठीक है ना. हम आपके शौचालय साफ करने के लिए बिलकुल नहीं बनाए गए हैं. हम जिस काम के लिए बनाये गए हैं, वह काम हम ईमानदारी से करेंगे. यह हमारा पहले भी कहना था, आज भी कहना है और आगे भी कहेंगे.''

गौरतलब है कि सीहोर भोपाल संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है. इसी सिलसिले में किसी कार्यकर्ता ने उन्हें फोन किया होगा और अपनी समस्या बताई होगी. उन्होंने कहा कि, "सांसद का काम सांसद को बताना चाहिए. सांसद का काम है कि वह विधायक, पार्षद, मंडल अध्यक्ष व बाकी सबसे मिल करके यहां का विकास करें. स्थानीय समस्याओं के लिए जो लोग आपने चुने हैं उन्हें बताएं. अपने को उनसे भी काम करवाना है."

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक का विवादित बयान, बोले- भ्रष्ट नेताओं को गोली मारें आतंकी

First published: 22 July 2019, 9:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी