Home » इंडिया » Pranab Mukherjee Death: People consider 13 number inauspicious, former president had special connection
 

Pranab Mukherjee Death: 13 नंबर को लोग मानते हैं अशुभ, प्रणब मुखर्जी का रहा है खास कनेक्शन

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 September 2020, 13:55 IST

Pranab Mukherjee Death: देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का सोमवार की शाम 84 साल की उम्र में निधन हो गया. उन्होंने दिल्ली के आर्मी अस्पताल में अंतिम सांस ली. वह देश के चहेते राष्ट्रपतियों में शुमार थे. 10 अगस्त से ही वह दिल्ली के आर्मी अस्पताल में भर्ती थे. प्रणब मुखर्जी के जीवन से जुड़ी ऐसी कुछ बातें हैं जिन्हें कम ही लोग जानते हैं.

13 जुलाई को हुई थी शादी

जिस 13 अंक को आम लोग अशुभ मानते हैं. उस 13 अंक से प्रणब दा का खास कनेक्शन था. प्रणब मुखर्जी के जीवन में 13 का अंक काफी शुभ साबित हुआ. उनके जीवन की तमाम महत्वपूर्म घटनाएं इस 13 अंक की गवाह बनीं. उनके वैवाहिक जीवन की शुरुआत 13 अंक के साथ हुई. 13 जुलाई 1957 को प्रणब मुखर्जी शादी के बंधन में बंधे.

देश के 13वें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

प्रणब मुखर्जी देश के 13वें राष्ट्रपति बने थे. राष्ट्रपति बनने के बाद उनको जो बंगला अलॉट किया गया था वह भी 13 अंक का ही था. प्रणब मुखर्जी दिल्ली के तालकटोरा स्थित 13 नंबर के बंगले में साल 1996 से साल 2012 तक रहे.

प्रणब मुखर्जी के निधन पर PM मोदी ने शेयर की भावुक कर देने वाली फोटो, हमेशा देते थे पिता का दर्जा

13 तारीख को पहली बार संसद में रखा था कदम

प्रणब मुखर्जी बतौर राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर नाम 13 जून 2012 को यूपीए सरकार की तरफ से दिया गया था. ममता बनर्जी ने यह नाम सोनिया गांधी की अध्यक्षता में हुई बैठक में सामने रखा था. प्रणब मुखर्जी पूर्व  प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के काफी करीबी थे. प्रणब मुखर्जी के काम से प्रभावित होकर साल 1969 में इंदिरा गांधी ने उन्हें पश्चिम बंगाल से राज्यसभा के लिए चुना. 13 जुलाई 1969 को उन्होंने पहली बार संसद में कदम रखा था.

बता दें कि प्रणब मुखर्जी के निधन पर पीएम मोदी ने गहरा शोक व्यक्त किया. उन्होंने ट्वीट किया, "पूर्व राष्ट्रपति के महत्वपूर्ण योगदार को देश याद रखेगा. उनका सम्मान हर एक वर्ग में था. उन्होंने हमारे राष्ट्र को विकास के पथ पर ले जाने में एक अमिट छाप छोड़ी. वह एक विद्वान, एक राजनीतिज्ञ, एक  राजनीतिक स्पेक्ट्रम तौर पर समाज के सभी वर्गों द्वारा प्रशंसनीय थे."

देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन, PM मोदी और राष्ट्रपति कोविंद ने जताया दु:ख

हाईकोर्ट ने कहा- 6 महीने से जेल में बंद कफील खान को तुरंत रिहा किया जाये, NSA हटाने का भी आदेश

First published: 1 September 2020, 13:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी