Home » इंडिया » Pranab Mukherjee son Abhijit Mukherjee can join Mamata Banerjee party Trinamool Congress
 

प्रणब मुखर्जी के RSS इवेंट में शामिल होने से गुस्साए बेटे अभिजीत उठा सकते हैं बड़ा कदम

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2018, 12:43 IST

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) दीक्षांत समारोह में शामिल होने पर कांग्रेस के साथ-साथ उनके घर में भी कोहराम मचा हुआ है. कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेताओं और प्रणब दा की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी इसपर पहले ही कड़ी आपत्ति जता चुकी हैं. अब उनके बेटे और कांग्रेस सांसद अभिजीत मुखर्जी को लेकर एक बड़ी खबर आ रही है.

अंग्रेजी अखबार फाइनेंशियल एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, पश्चिम बंगाल के जंगीपुर सीट से कांग्रेस सांसद अभिजीत मुखर्जी के तृणमूल कांग्रेस से जुड़ सकते हैं. टीएमसी के कुछ नेताओं ने अभिजीत से मुलाकात भी की है. हालांकि पहले तो इसे वो खारिज कर चुके थे लेकिन अब शायद कुछ बात चल रही है. बता दें कि अभिजीत उसी सीट से कांग्रेस के सांसद हैं, जिसपर कभी प्रणब मुखर्जी हुआ करते थे.

 

खबर में अभिजीत मुखर्जी के करीबियों के हवाले से लिखा गया है कि पहले जब मुखर्जी को टीएमसी से ऑफर मिला था, तो उन्होंने यह कहते हुए ठुकरा दिया था कि इससे उनके पिता प्रणब मुखर्जी का अपमान होगा, लेकिन अब हालात बदल गए हैं. खुद अभिजीत मुखर्जी तृणमूल कांग्रेस के ऑफर पर विचार कर रहे हैं.

बताया जा रहा है कि प्रणब मुखर्जी के संघ के कार्यक्रम में शामिल होने के बाद टीएमसी को भी कुछ संभावनाएं दिखने लगी हैं. इससे पहले शर्मिष्ठा मुखर्जी के भी बीजेपी में शामिल होने की अफवाह उड़ी थी जिसे खुद शर्मिष्ठा ने खारिज किया था. शर्मिष्ठा मुखर्जी ने रविवार को उनके पिता द्वारा दोबारा राजनीति में शामिल होने की खबर को भी बकवास बताया था. शर्मिष्ठा ने शिवसेना द्वारा प्रणब मुखर्जी के दोबारा देश की सक्रिय राजनीति में आने के कयास पर यह बात कही थी.

पढ़ें- वेदांता के तूतीकोरिन प्लांट के बंद होने से 800 कंपनियों का कारोबार पड़ सकता है ठप

दरअसल, शिवसेना ने कहा था कि 2019 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को बहुमत नहीं मिलने पर आरएसएस प्रधानमंत्री पद के लिए मुखर्जी के नाम का प्रस्ताव दे सकता है. बता दें कि प्रणब मुखर्जी 7 जून को आरएसएस मुख्यालय में तीसरे सालाना प्रशिक्षण शिविर में शामिल हुए थे. उन्होंने संघ के संस्थापक केशव बलिराम हेडगेवार को 'भारत माता का एक महान सपूत' बताया था. मुखर्जी के इस शिविर में शिरकत करने का निमंत्रण स्वीकार किए जाने पर कांग्रेस और वामपंथी दलों ने आलोचना की थी.

First published: 11 June 2018, 12:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी