Home » इंडिया » Prasar Bharati chief’s booklet ‘exposes Congress’s fascist tendencies
 

प्रसार भारती के चेयरमैन ने लिखी किताब, लिखा- कांग्रेस फासीवादी, मुसोलिनी के प्रशंसक थे सोनिया के पिता

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2019, 13:15 IST

प्रसार भारती के चेयरमैन ए सूर्य प्रकाश ने अपनी एक बुकलेट में कांग्रेस की फासीवादी प्रवृत्तियों को उजागर करने का दावा किया गया है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार प्रभात प्रकाशन द्वारा प्रकाशित 56 पृष्ठ की पुस्तिका 'कांग्रेस पार्टी फासीवादी प्रवृत्ति' (Fascist Tendencies in the Congress पार्टी) में तीन अध्याय है, जिसमे प्रसार भारती के चेयरमैन ने कांग्रेस पार्टी को लेकर खुलासे किये हैं. हालांकि उन्होंने इस बात से इनकार किया कि इसका चुनावों से कोई लेना-देना है क्योंकि यह चुनावों की घोषणा से बहुत पहले दिसंबर में जारी की थी. उन्होंने कहा यह उनकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता है.

इस बुकलेट में 1982 में एक घटना का जिक्र किया गया है, जिसमे कहा गया है कि पूर्व कांग्रेस नेता और राष्ट्रपति, तत्कालीन गृहमंत्री ज्ञानी जैल सिंह ने लोकसभा में एक भाषण में एडोल्फ हिटलर और मुसोलिनी का गुणगान किया था. जिन्हें पीठासीन अधिकारी ने बाहर कर दिया और बाद में सिंह ने खुद को हटा लिया. रिपोर्ट के अनुसार द इंडियन एक्सप्रेस के एक पत्रकार के रूप में सूर्य प्रकाश ने 24 मार्च को हुई उस घटना के बारे में रिपोर्ट की थी, जिसमें तत्कालीन उपसभापति ने उन्हें निकालने का कदम उठाया था.

सूर्य प्रकाश ने लिखा "न तो इंदिरा गांधी, और न ही किसी ने हिटलर और मुसोलिनी के लिए गृह मंत्री के आकर्षण पर विचार किया. इस घटना के ठीक दो महीने बाद इंदिरा गांधी ने ज़ैल सिंह को भारत के राष्ट्रपति के उम्मीदवार के रूप में चुना. सूर्य प्रकाश ने पुस्तिका के इंट्रोडक्शन में दावा किया है कि कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के पिता एंटोनियो माइनो मुसोलिनी के कट्टर प्रशंसक और समर्थक थे.

यह पूछे जाने पर कि क्या वह स्वायत्त प्रसार भारती के अध्यक्ष होने के नाते इस तरह की एक पुस्तिका लिख सकते हैं, सूर्य प्रकाश ने कहा "सार्वजनिक प्रसारक के रूप में यह देखना मेरा कर्तव्य है कि हर पार्टी को सामान रूप से देखा जाये. लेकिन एक व्यक्ति लेखक और एक स्तंभकार के रूप में मुझे अपने विचार व्यक्त करने की स्वतंत्रता है.”

सर्जिकल स्ट्राइक वाले बयान पर बोले राहुल गांधी- सेना मोदी की निजी संपत्ति नहीं है

First published: 4 May 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी