Home » इंडिया » Prasar Bharti and IB Ministry are now face-to-face on payment of money
 

प्रसार भारती और I&B मिनिस्ट्री आमने-सामने, दूरदर्शन ने कहा नहीं देंगे निजी फर्म को 2.92 करोड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 March 2018, 11:43 IST

सूचना प्रसारण मंत्रालय और प्रसार भारती के बीच नौकरी पर रखने और हटाने को लेकर हुए विवाद के बाद अब आर्थिक मुद्दों पर भी विवाद शुरू हो गया है. अब प्रसार भारती के तहत आने वाले दूरदर्शन (डीडी) ने राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम (एनएफडीसी) की बार-बार की जा रही मांगों को ख़ारिज कर दिया है. बता दें कि एनएफडीसी आईबी  मिनिस्ट्री के तहत आता है.

अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह 2017 के उद्घाटन और समापन समारोह के लिए लाइव कवरेज करने वाली मुंबई की एक निजी फर्म को 2.92 करोड़ रुपये का भुगतान करने के लिए प्रसार भारती को कहा गया था, जिससे प्रसार भारती ने इंकार कर दिया है. दूरदर्शन का दावा है कि आउटसोर्स की कोई जरूरत नहीं थी. क्योंकि वह वर्षों से यह कर रहा था और समारोहों को प्रसारित करने के लिए उसके पास इन-हाउस क्षमता थी.

ये भी पढ़ें : INX मनी लॉन्ड्रिंग केस: CBI रिमांड पर कार्ति चिदंबरम, आज कोर्ट में किया जाएगा पेश 

द इंडियन एक्सप्रेस द्वारा दायर सूचना के अधिकार के जवाब में एनएफडीसी ने 9 फरवरी को कहा, कि ओपनिंग और समापन समारोहों के लिए एक निजी फर्म एसओएल प्रोडक्शन प्राइवेट लिमिटेड से अनुबंध किया गया था. एनएफडीसी ने डीडी को 2.92 करोड़ रुपये का भुगतान करने के लिए कहा है. आधिकारिक रिकॉर्ड बताते हैं कि 20 नवंबर को एनएफडीसी ने दूरदर्शन को भुगतान की मांग की थी.

12 नवंबर को एक पत्र में एनएफडीसी ने प्रसार भारती को राशि का भुगतान करने के लिए कहा था.
18 जनवरी को एनएफडीसी के फेस्टिवल निदेशक सुनीत टंडन ने प्रसार भारती के सीईओ शशी शेखर को पत्र लिखा, और कहा कि डीडी ओपनिंग और समापन समारोह के लिए भुगतान कर सकता था. इस मामले में 15 फरवरी को प्रसार भारती बोर्ड की बैठक में बोर्ड ने 2.92 करोड़ रुपये के बिल का भुगतान करने से इनकार कर दिया. 

यह कोई पहला मौका नहीं जब प्रसार भारती और सूचना प्रसारण मंत्रालय के बीच विवाद हुआ हो. इससे पहले सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने प्रसार भारती को अपने बोर्ड में एक सेवारत आईएएस अधिकारी को नियुक्त करने और दो पत्रकारों को उच्च संपादकीय पदों पर मोटी सैलरी पैकेज के साथ नियुक्त करने का आदेश दिया था.

प्रसार भारती ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया है. प्रसार भारती ने सूचना और प्रसारण मंत्रालय की तरफ से दिए गए कुछ दूसरे दिशा-निर्देशों को भी प्रसार भारती अधिनियम 1990 के खिलाफ बताते हुए खारिज कर दिया है.

First published: 1 March 2018, 11:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी