Home » इंडिया » Prashant Bhushan quits NGO governing councils
 

प्रशांत भूषण को नियमों के उल्लंघन के आरोप में कॉमन कॉज और CPIL से देना पड़ा इस्तीफा

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 April 2019, 10:51 IST

प्रसिद्ध नागरिक अधिकार वकील प्रशांत भूषण को गवर्निंग काउंसिल फॉर एनजीओ-सेंटर फॉर पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन (CPIL), कॉमन कॉज और स्वराज अभियान से इस्तीफ़ा देना पड़ा है. बार काउंसिल ऑफ दिल्ली (BCD) में भूषण के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी. बार काउन्सिल ऑफ़ इंडिया के नियम के मुताबिक वह व्यक्ति उन संगठनों की ओर अदालत में प्रतिनिधित्व नहीं कर सकता जो उन संगठनों में खुद पदाधिकारी हो.

बार काउन्सिल ने भूषण को एक एडवाइजरी जारी कर भूषण से कहा था कि वह इन संस्थाओं की ओर से अदालत में पैरवी न करें. मंगलवार को भूषण ने कहा, “मैंने गैर-सरकारी संगठनों की गवर्निंग काउंसिल से इस्तीफा दे दिया है, जिनके लिए मैं उपस्थित रहा हूं''.

 

उन्होंने कहा ''हालांकि मैंने संगठनों से इस्तीफा नहीं दिया है.” उनके कार्यालय के अनुसार, "भूषण ने गैर सरकारी संगठनों से इस्तीफा दे दिया है, क्योंकि बार काउंसिल ऑफ इंडिया का नियम वकालत करने से रोकता है यदि वह उस संगठन का पदाधिकारी है."

भूषण ने सीपीआईएल, कॉमन कॉज और स्वराज अभियान के लिए इन संगठनों के पदाधिकारी होने का हवाला देते हुए कहा कि मेजर एस के पुनिया (सेवानिवृत्त) ने बार काउंसिल ऑफ इंडिया रूल्स फॉर प्रोफेशनल स्टैंडर्ड्स के उल्लंघन के लिए बीसीडी के समक्ष शिकायत दर्ज की थी.

First published: 17 April 2019, 10:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी