Home » इंडिया » Prashant Kishor joins Nitish Kumar party Janata Dal United before Loksabha Election 2019
 

प्रशांत किशोर JDU में शामिल, नीतीश कुमार देंगे बड़ी जिम्मेदारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 September 2018, 11:35 IST

Prashant Kishor joins Nitish Kumar party JDU: साल 2014 के लोकसभा चुनाव में BJP के लिए चुनावी रणनीति बनाकर नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने अब नई पारी शुरू की है. प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ज्वाइन कर ली है. इसके साथ ही अब वो चुनावी मैदान अपनी किस्मत आजमाएंगे. माना जा रहा है कि नीतीश कुमार उन्हेें जेडीयू में बड़ी जिम्मेदारी सौंपेंगे.

बता दें कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को पीएम बनवाने में बड़ी भूमिका निभाने के बाद प्रशांत किशोर को राजनीति का चाणक्य कहा गया था. हालांकि साल 2015 में प्रशांत किशोर ने बीजेपी छोड़ दी थी और बिहार चुनाव के लिए उन्होंने नीतीश कुमार और महागठबंधन के लिए चुनावी रणनीति बनाई थी.

 

पिछले कुछ समय से कहा जा रहा था कि प्रशांत किशोर एक बार फिर बीजेपी में वापसी चाह रहे थे. लेकिन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह प्रशांत किशोर को लेकर उतने सहज नहीं थे. जब प्रशांत किशोर बीजेपी छोड़कर गए थे तब अमित शाह उनके इस फैसले से नाखुश थे.

खबर थी कि अमित शाह अब प्रशांत किशोर को मुख्य प्रचार अभियान में शामिल नहीं करना चाहते थे. हालांकि अमित शाह ने सुझाव दिया था कि प्रशांत किशोर एक अलग प्रोजेक्ट हाथ में ले सकते हैं. अमित शाह किशोर को बीजेपी की दलित हितैषी छवि को जनता में उभारने के काम में लगाना चाहते थे. लेकिन किशोर को यह मंजूर नहीं हुआ.

 

हालांकि कुछ दिनों पहले ही प्रशांत किशोर ने राजनीति में आने की अटकलों को खारिज किया था और कहा कहा था कि उनका राजनीति में आने का फिलहाल कोई इरादा नहीं है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा था कि 2019 में किसी भी पार्टी के लिए उस तरह प्रचार करते नजर नहीं आएंगे जिस तरह से में पिछले 4-5 साल से करते आए हैं.

पढ़ें- कांग्रेस को मिला BJP को हराने का फार्मूला, उठा सकती है ये बड़ा कदम

गौरतलब है कि प्रशांत किशोर का करियर जब लगातार कामयाबी के ग्राफ चढ़ रहा था तो उन्हें उत्तर प्रदेश में करारी हार मिली थी. साल 2017 के विधानसभा चुनाव में वे जिस कांग्रेस की रणनीति तैयार कर रहे थे, उसे 2017 के विधानसभा चुनाव में जबर्दस्त हार झेलनी पड़ी थी. अब वह अपने लिए फिर से एक बड़ा नाम कमाना चाहते हैं जैसे उन्होंने 2014 के चुनाव में बीजेपी को जिताने के बाद मिला था.

First published: 16 September 2018, 11:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी