Home » इंडिया » Praveen Togadiya wrute letter to PM narendra modi, askes for time to meet for the sake of old friendship
 

प्रवीण तोगड़िया ने पीएम मोदी को चिट्टी लिख याद दिलाई पुरानी दोस्ती

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 March 2018, 9:51 IST

विश्व हिन्दू परिषद् के नेता प्रवीण तोगड़िया एक बार फिर सुर्ख़ियों में है. इस बार प्रवीण ने पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है. पिछले कुछ बयानों से देखा जा सकता है कि प्रवीण केंद्र सरकार की कई नीतियों से नाखुश नजर आ रहे हैं. प्रवीण ने दोस्ती की पुरानी बातें याद दिलाते हुए तंज कसा है कि मोदी ने मूल विचारधारा से दूरी बना ली है. उन्होंने यह भी कहा है कि सरकार ने हिंदुत्व और विकास को लेकर कोई वादा पूरा नहीं किया है.

वे अयोध्या में राम मंदिर, समान नागरिक संहिता आदि मसलों पर बात करना चाहते हैं. इस चिट्ठी को तोगड़िया की तरफ से दोस्ती की नई शुरुआत की कोशिश माना जा रहा है. इसमें अंत में लिखा है, ‘मेरे इस पत्र का सरकारी जवाब नहीं आएगा, एक बिछड़ा मित्र फोन उठाकर बात कर मिलने का समय तय करेगा ऐसी उम्मीद के साथ.’

चिट्‌ठी में लिखा है, ‘बहुत वक्त से हम दोनों का दिल से संवाद नहीं हुआ, जो 1972 से 2005 तक होता रहा था. हमारे घर, ऑफिस में आपका आना, साथ में भोजन, चाय ठहाके लगाकर हंसना... मुझे विश्वास है आप कुछ भी नहीं भूले हो.’

उन्होंने गुजरात दंगों के बाद दूरी आने का जिक्र किया है. कहा,”2002 से हमारा संवाद कम होता गया. पत्र में लिखा है,’सत्ता मिलने के साथ आपने हमसे और मूल विचारधारा से ही दूरी बना ली फिर भी हमारे दिल में आज भी वही संवाद की उम्मीद है.’

इतना ही नहीं उन्होंने ये भी लिखा है 'मित्रता और मोटा भाई के नाते हमारी कई विषयों पर खुलकर चर्चा होती थी, एक दूसरे के साथ, एक दूसरे के लिए खड़े रहे थे. जो 2002 से कम होता गया, जब हजारों हिंदू गुजरात में जेल भेजे गए और 300 के करीब हिंदू गुजरात की पुलिस की गोलियों से मारे गए.
चिट्ठी के अंत में उन्होंने लिखा कि मुझे पता है मेरे खत का जवाब नहीं आएगा, एक बिछड़ा मित्र फोन उठाकर बात कर मिलने का समय तय करेगा ऐसी उम्मीद के साथ.'

First published: 15 March 2018, 9:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी