Home » इंडिया » Prayagraj Kumbh 2019 : Kanto Wale Babe is Attracting People in Kumbh
 

कुंभ मेला 2019: कांटों वाले बाबा को देखकर हैरान हैं लोग, कांटों को बनाया है अपना बिस्तर

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 January 2019, 12:12 IST

इनदिनों प्रयागराज कुंभ अपने पूरे शबाब पर है, चारों ओर साधू-संतों के तमाम रूप दिखाई दे रहे हैं. दुनियाभर से लोग संगम नगरी पहुंच कर कुंभ में पुण्य कमा रहे हैं. आज हम आपको एक ऐसे ही बाबा के बारे में बताने जा रहे हैं जो कुंभ में हर किसी को हैरान कर रहे हैं. उन्हें देखकर और उनके बारे में जानकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे. कहा जाता है कि भगवान की भक्ति में शक्ति होती हैं. इस बात को भगवान के भक्त समय-समय पर सिद्ध भी करते हैं.

ऐसा ही कुछ इन बाबा को देखकर भी कहा जा सकता है. इनदिनों प्रयागराज कुंभ अपने पूरे शबाब पर है, चारों ओर साधू-संतों के तमाम रूप दिखाई दे रहे हैं. दुनियाभर से लोग संगम नगरी पहुंच कर कुंभ में पुण्य कमा रहे हैं. आज हम आपको एक ऐसे ही बाबा के बारे में बताने जा रहे हैं जो कुंभ में हर किसी को हैरान कर रहे हैं.

बाबा के कांटों वाले बिस्तर पर विराजने को लेकर हैरान करने वाली घटना इनके जीवन से ही जुड़ी है, जो कि उनके साथ 18 साल की उम्र के दौरान घटी थी. कांटों को अपना बिछौना बनाने के पीछे की वजह जानकर कोई भी हैरान रह जाएगा.

बताया जाता है कि कुंभ में ये कांटों वाले बाबा कई सालों से अपने पाप का प्रायश्चित कर रहे हैं. बाबा का कहना है कि जब वह 18 साल के थे तब उन्होंने गलती से गौ हत्या कर दी थी, जिसके बाद से वह प्रायश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं.

कांटों वाले बाबा का कहना है कि वह माघ मेले और कुंभ के दौरान में प्रयागराज जरूर आते हैं. इस दौरान चढ़ावे में उन्हें जो भी धन प्राप्त होता है, उसको वह मथुरा में गायों की देख-रेख में इस्तेमाल कर लेते हैं.

कांटों वाले बाबा का कहना है कि देश में जहां भी बड़ा धार्मिक आयोजन होता है, वह वहां जरूर जाते हैं. बता दें कि कांटों वाले बाबा का असली नाम लक्ष्मण राम है. बाबा लक्ष्मण राम का कहना है कि कांटों के बिस्तर में सोने से उन्हें दर्द होता है, लेकिन उसे वह सह लेते हैं.

ये भी पढ़ें- कुंभ मेला 2019: जानिए अखाड़ों के नियम और कानून, जहां आज भी चलती है सालों पुरानी परंपरा

First published: 29 January 2019, 12:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी