Home » इंडिया » President Addresses Parliament: Budget Session Begins
 

राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ संसद का बजट सत्र आरंभ

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 February 2016, 12:56 IST

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के अभिभाषण के साथ संसद का बजट सत्र आज से शुरू हो गया. बजट सत्र पर दिये अपने अभिभाषण में महामहिम राष्ट्रपति ने सरकार की कुछ नीतियों का प्रमुखता से वर्णन किया. राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण की शुरुआत संघ के विचारक दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद के दर्शन का जिक्र करके शुरू किया.

उनके संबोधन में वर्तमान सरकार की कुछ नीतियों का प्रमुखता से जिक्र किया. मसलन आंबेडकर का जिक्र करते हुए उन्होंवे कहा कि उनकी सरकार देश में सामाजिक न्याय के प्रति प्रतिबद्ध है. उनके द्वारा प्रशंसित कुछ सरकारी नीतियां इस प्रकार हैं-

1. प्रधानमंत्री जनधन योजना दुनिया की सबसे कामयाब और असरदार योजना रही.

2. सरकार ने किसानों को कम प्रीमियर पर बेहतर फसल बीमा देने का फैसला किया है.

3. प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 2 करोड़ नए घर बनाए गए हैं.

4. सरकार की नीति वसुधैव कुटुंबकम के सिद्धांत पर आधारित है.

5. सरकार की बांग्लादेश नीति बेहद सफल रही है. 

6. सरकार ने वीजा ऑन अराइवल की सुविधा बड़े पैमाने पर शुरू की है. 

7. सरकार ने 48 देशों में हिंसा में फंसे भारतीय नागरिकों को सुरक्षित निकाला.

8. राष्ट्रपति ने संसद में बहस की जरूरत पर बल दिया. संसद में गतिरोध को उन्होंने गैरजरूरी बताय.

9. सरकार किसानों के लिए कम प्रीमियर पर फसल बीमा शुरू कर रही है.

10. सरकार ने 'सबका साथ, सबका विकास' के आधार पर काम किया है.

राष्ट्रपति के अभिभाषण से पूर्व मीडिया से बातचीत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश के सवा सौ करोड़ लोगों की निगाहें संसद, रेल बजट और आम बजट पर हैं.  विपक्ष ने बजट सत्र के दौरान संसद को सुचारू रूप से चलने के लिए हमें भरोसा दिलाया है.

उन्होंने उम्मीद जतायी की संसद के इस सत्र का उपयोग विभिन्न मुद्दों पर गहन विचार-विमर्श के लिए होगा. विभिन्न मुद्दों पर सरकार की आलोचना भी होनी चाहिए. सरकार की गलतियां भी उजागर होनी चाहिए. विपक्ष सरकार के कार्यों में रह गई कमी को भी बताये. 

गौरतलब है कि बजट सत्र के दौरान 25 तारीख को रेल बजट और 29 तारीख को आम बजट पेश किया जाएगा. साथ ही सरकार जीएसटी जैसे अहम विधेयकों को भी इस सत्र में पारित कराने की कोशिश करेगी.

वहीं विपक्ष मोदी सरकार को रोहित वेमुला, जेएनयू मामला, अरुणाचल जैसे कई मुद्दों पर घेरने का पूरा मन बना चुकी है. वहीं सरकार ने कहा है कि वह जेएनयू, पठानकोट और रोहित वेमुला समेत सभी मुद्दों पर विपक्ष के साथ चर्चा के लिए तैयार हैं.

First published: 23 February 2016, 12:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी