Home » इंडिया » President Kovind rejects mercy plea of jagat rai convicted of murder of 6 members of a family
 

राष्ट्रपति कोविंद ने अपने कार्यकाल की पहली दया याचिका खारिज की, ये है मामला

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 May 2018, 8:44 IST

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हत्या के दोषी जगत राय की दया याचिका को ख़ारिज कर दिया है. जगत राय बिहार के एक परिवार के 6 लोगों की हत्या का दोषी है. बीते पांच सालों से सुप्रीम कोर्ट ने जगत राय को फांसी दिए जाने की सजा पर रोक लगाने से इनकार किया है. इसके बाद उसने राष्ट्रपति से फांसी रोकने के लिए दया याचिका भेजी.

रामनाथ कोविंद के कार्यकाल की ये पहली दया याचिका है. लेकिन राष्ट्रपति ने फांसी की सजा माफ करने से इनकार कर दिया है. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक इस मामले पर तकरीबन 10 महीने तक चर्चा की गयी. गौरतलब है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति पद संभालने के पहले बिहार में बतौर राज्यपाल कार्यरत रहे हैं.

ये भी पढ़ें- EVM को लेकर बोले अखिलेश- पहले सूरत कपड़ा बनाता था अब सरकार बनाता है

क्या था मामला

मामला बिहार का है. जहां भैंस चुराने के आरोप से विवाद शुरू हुआ. जगत राय पर आरोप था कि उसने विजेंद्र महतो की भैंस चुरा ली है. ये आरोप विजेंद्र महतो ने ही लगाया था. जगत राय महतो की पत्नी और उसके पांच बच्चों की हत्या का आरोपी है.

महतो ने जगत राय पर भैंस चुराने का आरोप लगा कर पुलिस में शिकायत की. महतो ने पुलिस केस वापस लेने का दबाव बनाया जिसे महतो ने इंकार कर दिया. जिसके बाद उनके पूरे परिवार को इसकी कीमत चुकानी पड़ी.

इसके बाद 1 जनवरी 2006 की रात जब महतो की पत्नी बेबी देवी, बेटा सूरज, अनिलऔर राजेश, बेटी पूनव और नीलम सो रही थीं तभी जगत राय ने उनके घर में आग लगा दी.

First published: 30 May 2018, 8:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी