Home » इंडिया » President Kovind visit to AMU convocation students opposing his visit to the campus
 

छात्रों के विरोध के बाद AMU के दीक्षांत समारोह में जायेंगे राष्ट्रपति कोविंद, सुरक्षा के कड़े इंतजाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 March 2018, 10:15 IST

अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद छात्रों को सम्बोधित करेंगे. AMU के 65वें दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति 5381 छात्र-छात्राओं को डिग्रियां देंगे. गौरतलब है कि छात्र संगठन के विरोध के कारण भी राष्ट्रपति का यह दौरा चर्चा में बना हुआ है. विरोध को ध्यान में रखते हुए आज के कार्यक्रम के लिए सुरक्षा व्यवस्था को कड़ा रखा गया है.

दरअसल, छात्र संगठनों का विरोध राष्ट्रपति के द्वारा पूर्व में दिए गए एक बयान पर है. छात्र संघ के एक पदाधिकारी ने मांग की है कि राष्ट्रपति या तो साल 2010 में मुसलमानों पर की गई अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगें, या दीक्षांत समारोह में आने का कार्यक्रम रद्द करें.

छात्रों का आरोप है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद साल 2010 में जब बीजेपी के प्रवक्ता थे, तो उन्होंने कथित रूप से यह कहा था कि भारत के लिए ईसाई और मुसलमान विदेशी हैं. उन्होंने कहा कि वाइस चांसलर ने राष्ट्रपति को अपने हितों को साधने के लिए आमंत्रित किया है. वह यह संदेश देना चाहते हैं कि AMU ने बीजेपी सरकार और उसकी विचारधारा को अपना लिया है.

यूनिवर्सिटी में हर छात्र राष्ट्रपति के आने का विरोध में नहीं हैं. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष मश्कूर उस्मानी ने कहा कि यूनिवर्सिटी में भारतीय राष्ट्रपति आ रहे हैं. हम उनका स्वागत करते हैं. किसी भी तरह के उपद्रवी तत्वों को कैंपस में नहीं आने देंगे.

आईएमयू के कुछ और छात्र AMUSU के अध्यक्ष मश्कूर उस्मानी का समर्थन कर रहे हैं. छात्रों का मानना है कि उनका विरोध राष्ट्रपति को लेकर नहीं है बल्कि संघ की विचारधारा को लेकर है. छात्रों का कहना है कि वो राष्ट्रपति का स्वागत करेंगे लेकिन एएमयू में नफरत फैलाने वाले संघ के लोगों को नहीं पनपने देंगे.

छात्रों पर पुलिस की नजर
राष्ट्रपति का विरोध करने वाले विश्वविद्यालय के छह छात्रों को सिविल लाइंस पुलिस ने पाबंद कर दिया है. इसमें पूर्व छात्रसंघ उपाध्यक्ष नदीम अंसारी, राऊ फराज, आमिर आदि शामिल हैं. इन छात्रनेताओं ने राष्ट्रपति को काले झंडे दिखाने की धमकी दी थी.

यूनिवर्सिटी के कार्यक्रम के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह पोती की शादी समारोह में शामिल होंगे. उनकी सुरक्षा व्यवस्था में 19 आईपीएएस अधिकारी, 10 कंपनी पीएसी, 10 कंपनी पैरामिलिट्री फोर्स, 32 एडिशनल एसपी, 100 क्षेत्राधिकारी, 150 इंस्पेक्टर के साथ करीब 2000 कांस्टेबल की ड्यूटी लगाई गई है. राष्ट्रपति की सुरक्षा कितनी मजबूत है इसका अंदाजा लगाया जा सकता है कि 125 सीसीटीवी कैमरे, छह ड्रोन कैमरे लगाए गए हैं. कानून और शांति व्यवस्था के लिए धारा 144 लागू की गई है.

First published: 7 March 2018, 10:15 IST
 
अगली कहानी