Home » इंडिया » President not to attend Sri Sri Ravishankar World Culture Festival
 

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नहीं जाएंगे श्री श्री रविशंकर के महायोजन में

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी दिल्ली में यमुना नदी के किनारे होने वाले वर्ल्ड कल्चर के उद्घाटन समारोह में शामिल नहीं होंगे. राष्ट्रपति मुखर्जी ने विभिन्न संगठनो द्वारा समारोह को लेकर पर्यावरण नियमों के उल्लंघन की शिकायत के बाद यह फैसला किया है.

इसके अलावा श्रीश्री के इस कार्यक्रम पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की नजर भी टेढ़ी बनी हुई है. खबरों के मुताबिक श्रीश्री के आर्ट ऑफ लिविंग के द्वारा इस समारोह के लिए जिन किसानों की जमीनें ली गई हैं, उनको अभी तक उचित मुआवजा भी नहीं मिला है.

11 से 13 मार्च तक तीन दिनों के इस समारोह के भव्य उद्घाटन के दिन 35,973 कलाकार एक साथ सांस्कृतिक प्रस्तुति देंगे. इसमें दुनिया भर से करीब 3.5 लाख लोगों के आने की उम्मीद है.

पर्यावरणविदों ने इस कार्यक्रम के आयोजन में पर्यावरण नियमों के उल्लंघन और यमुना के कछार को होने वाले नुकसान को देखते हुए विरोध किया है. इस विवाद के बावजूद डीडीए ने श्री श्री रविशंकर के समारोह के खिलाफ किसी तरह का कोई भी एक्शन लेने से मना कर दिया है.

एनजीटी के कड़े रूख के बाद डीडीए ने कहा कि उसे समारोह के इतने बड़े पैमाने पर किए जाने की जानकारी नहीं थी.

वहीं दूसरी तरफ बीच फाउंडेशन ने इस कार्यक्रम के खिलाफ चेंज डॉट ओआरजी पर हस्ताक्षर अभियान चला रखा है. गैरसरकारी संगठन स्वेच्छा इंडिया के विमलेंदु झा ने मुहिम चलाकर इस समारोह को यमुना किनारे से हटाने की मांग की है.

इसके अलावा झा ने आयोजन की वजह से यमुना को हुए नुकसान की भरपाई की मांग भी की है. इस आवेदन पत्र को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के प्रमुख स्वतंत्र कुमार, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के अलावा श्री श्री रविशंकर को भी भेजा गया है.

First published: 7 March 2016, 8:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी