Home » इंडिया » President Pranab Mukherjee addressed nation on the eve of Republic Day
 

प्रणब मुखर्जी का आखिरी संदेश: सुनते-सुनते नींद आ जाए

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 January 2017, 20:03 IST

68वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने देशवासियों को संबोधित किया है. राष्ट्रपति के रूप में देशवासियों के लिए यह उनका अंतिम संदेश है. उन्होंने अपने भाषण में सरकार की ज़्यादातर नीतियों और योजनाओं की प्रशंसा उसी तरह की है, ठीक उसी तरह जैसे पिछले भाषणों में करते आए हैं. 

राष्ट्रपति मुखर्जी ने कहा है कि चुनौतिपूर्ण वैश्विक गतिविधियों के बावजूद हमारी अर्थव्यवस्था अच्छा प्रदर्शन कर रही है. उन्होंने नोटबंदी की नीति की प्रशंसा करते हुए कहा है कि कालेधन से लड़ने के लिए लागू की गई इस नीति का असर अच्छा होगा. साथ ही, डिजिटल पेमेंट से लेनदेन में भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी. उन्होंने कहा है कि सरकार की प्रमुख पहलों में मनरेगा जैसी स्कीम लोगों को रोज़गार दे रही हैं और डायरेक्ट ट्रांसफर भ्रष्टाचार रोकने और पारदर्शिता बनाने में सहयोगी है. 

उन्होंने कहा कि हमारा लोकतंत्र कोलाहलपूर्ण है, लेकिन हम चाहते हैं कि लोकतंत्र बढ़े, कम ना हो. हमारी परंपरा में कभी असहिष्णु समाज की नहीं बल्कि तर्कवादी समाज की प्रशंसा की गई है. 

उन्होंने कहा कि अभी हम श्रेष्ठ नहीं हुए हैं और हमें अपनी कमियों को पहचानना चाहिए. हमें गांव के लोगों के लिए ज्यादा सुविधाएं मुहैया करानी चाहिए जिससे उनका जीवन अच्छा हो सके. हमें कृषि को बढ़ावा देना चाहिए. देश सेवा के लिए हमसे जो कुछ हो सके, करना चाहिए और अपनी जिम्मेदारियों को निभाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि गांधी जी का सपना, हर आंख से आंसू पोछने का अभी पूरा नहीं हुआ है. अभी भी जनसंख्या का पांचवां हिस्सा गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करता है. राष्ट्रपति ने कहा है कि हमारा देश विश्व का सबसे तेज़ विकसित होने वाला देश है. 

चुनाव सुधारों पर भी राष्ट्रपति ने विचार व्यक्त किए हैं. उन्होंने कहा है कि चुनावी सुधारों पर रचनात्मक परिचर्चा करने का भी समय आ गया है. राजनीतिक दलों के विचार-विमर्श से इस कार्य को आगे बढ़ाना चुनाव आयोग की ज़िम्मेदारी है. 

उन्होंने आतंकवाद पर कहा है कि बुरी शक्तियों को दूर रखने के लिए और अधिक परिश्रम करना है, इनका दृढ़ व निर्णायक मुकाबला करना होगा. हमें बाढ़, भूस्खलन और सूखे के रूप में, प्रकोप को रोकने के लिए प्रकृति को शांत करना होगा. 

First published: 25 January 2017, 20:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी