Home » इंडिया » Pulwama attack: After Terror Attack Reactions Of Martyrs Family
 

Pulwama attack: शहीद के पिता का छलका दर्द, बोले- 'एक बेटा खोया और दूसरे को भी भेजूंगा लेकिन पाकिस्तान को करारा जवाब दो'

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 February 2019, 18:45 IST

पुलवामा आतंकवादी हमले के कारण पूरे देश में दुःख और आक्रोश का माहौल है. देश के प्रत्येक नागरिक का खून खौल रहा है और वो बदले की मांग कर रहा है. सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए और कई जवान बुरी तरह से जख्मी हैं जिनका इलाज चल रहा है. पीएम मोदी ने ने भी आज सार्वजनिक मंच से आतंक और पाकिस्तान को करारा जबाब देने के लिए सेना को पूरी छूट देने का ऐलान किया है.

एक बेटा खो चुका हूं, दूसरे को भी मातृभूमि  पर मर-मिटने के लिए भेजूंगा

पुलवामा हमले में अपने बेटे को खो चुके एक पिता को गम तो है लेकिन उससे भी अधिक उन्हें अपने बेटे की शहादत पर गर्व है. वो कहते हैं मैं अपना एक बेटा खो चुका हूं, दूसरे को भी मातृभूमि पर मर-मिटने के लिए भेजूंगा लेकिन पाकिस्तान को करारा जवाब मिलना चाहिए और इसका बदला लेना चाहिए.

ये शब्द हैं पुलवामा हमले में शहीद हुए बिहार के भागलपुर के रतन ठाकुर के पिता का. इन्होंने अपने नौजवान बेटे को इस आतंकी हमले में खो दिया है. जब उन्हें अपने बेटे की शहादत की खबर मिली तो वे सदमें में आ गए, पूरे गांव में मातम पसर गया. लेकिन फिर आक्रोशित होते हुए कहते हैं कि ''मैंने देश की मातृभूमि के लिए अपने एक बेटे का बलिदान दिया है और मैं अपने दूसरे बेटे को भी देश की खातिर लड़ने और कुर्बान होने को तैयार रहने के लिए भेजूंगा लेकिन पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब मिलना चाहिए.''

भारत का एक्शन शुरु

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) का दर्जा छीन लिया है. पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आज हुई सुरक्षा पर कैबिनेट कमिटी (CCS) की बैठक में यह बड़ा फैसला लिया गया है. एक घंटे तक चली उच्चस्तरीय बैठक में पाकिस्तान और आतंकियों को सबक सिखाने के लिए कई तरह की रणनीतियों पर सहमति बनी. भारत ने पाकिस्तान को 1996 में मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा दिया था. पाकिस्तान सालों से इसका व्यापारिक फायदा उठाता आ रहा है.

First published: 15 February 2019, 18:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी