Home » इंडिया » Pulwama attack: China again refuses to back India’s attempts at UN to list Masood Azhar as terrorist
 

Pulwama attack: चीन ने फिर दिया झटका, कहा- मसूद अज़हर को आतंकी घोषित करने का नहीं करेंगे समर्थन

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 February 2019, 15:10 IST

चीन ने शुक्रवार को एक बार फिर से जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र में भारत की अपील का समर्थन करने से इंकार कर दिया. जैश-ए-मोहम्मद द्वारा जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के काफिले पर आत्मघाती बम हमले की जिम्मेदारी लेने का दावा करने के एक दिन बाद चीन का इनकार सामने आया है.

पुलवामा हमले के अलावा, अजहर पर भारत में कई आतंकी हमलों को अंजाम देने का आरोप है, जिसमें 2016 में जम्मू-कश्मीर के उरी में एक आर्मी कैंप पर, जिसमें सुरक्षा बलों के 17 सदस्य मारे गए थे. पठानकोट में भारतीय वायु सेना के अड्डे पर 2016 के हमले के मास्टरमाइंड के रूप में अजहर की पहचान की गई थी. अजहर को भारत की संसद हमले के मामले में शामिल होने और 2001 में श्रीनगर विधानसभा में बम विस्फोट में शामिल माना जाता है.

 

न्यूज़ 18 की रिपोर्ट के अनुसार चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा "हम इस हमले से गहरे सदमे में हैं," हम घायलों और शोक संतप्त परिवारों के प्रति गहरी संवेदना और सहानुभूति व्यक्त करते हैं." हालांकि, बीजिंग ने अजहर को आतंकवादी के रूप में सूचीबद्ध करने के लिए नई दिल्ली की मांग को समर्थ देने से इनकार कर दिया. गेंग ने कहा, "लिस्टिंग के मुद्दे के लिए, मैं आपको बता सकता हूं कि [संयुक्त राष्ट्र] सुरक्षा परिषद की 1267 समिति ने आतंकवादी संगठनों की सूची और प्रक्रिया पर स्पष्ट मुहर लगाई है.

चीन प्रतिबंधों के मामले को "रचनात्मक और जिम्मेदार तरीके से निपटेगा''. चीन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में वीटो शक्ति रखता है. नवंबर में, चीन ने संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस और यूनाइटेड किंगडम द्वारा संयुक्त राष्ट्र आतंकवादी सूची में अजहर का नाम जोड़ने के लिए चौथी बार प्रयास किया क्योंकि कोई सहमति नहीं थी."

दक्षिण कश्मीर का 19 वर्षीय आदिल अहमद डार कैसे बना जैश का आतंकी, पिता ने सुनाई कहानी

First published: 15 February 2019, 15:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी