Home » इंडिया » Pulwama attack: NIA filed 13,800 pages charge sheet, presented evidence against Jaish-e-Mohammad
 

पुलवामा हमला : NIA ने दायर की 13,800 पन्नों की चार्जशीट, पेश किये जैश के खिलाफ ये सबूत

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 August 2020, 9:18 IST

Pulwama attack: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने मंगलवार को दायर अपनी चार्जशीट में कहा है कि पुलवामा हमला आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के पाकिस्तान-आधारित नेतृत्व द्वारा रची गई एक योजनाबद्ध साजिश थी. एनआईए ने कहा है कि डार ने हमले में लगभग 200 किलोग्राम विस्फोटक का इस्तेमाल किया था. जम्मू में एनआईए की विशेष अदालत में दायर 13,800 पन्नों की चार्जशीट में मसूद अजहर, उनके भाइयों रउफ असगर और अम्मार अल्वी और भतीजे उमर फारूक सहित 19 लोगों के नाम हैं. 19 में से छह की मौत हो चुकी है. सात को गिरफ्तार किया गया है और शेष 6 में से 3 मसूद अजहर, रउफ असगर, अम्मार अल्वी पाकिस्तान में हैं जबकि तीन स्थानीय आतंकवादी है.

चार्जशीट में सबूत के तौर पर जेईएम प्रमुख मसूद अजहर के भाई रउफ असगर की आवाज को बताया गया है, जो हमले के बारे में चर्चा कर रहा है. कहा गया है कि पाकिस्तान का सरकारी पहचान पत्र अज़हर के भतीजों मोहम्मद उमर फारूक जारी किया गया था. NIA ने अन्य सबूतों में हर कदम की तस्वीरें भी शामिल हैं, जिसमें योजना बनाने से लेकर पाकिस्तान में नंबरों के कॉल लॉग शामिल हैं. उमर फारूक के नाम पर पाकिस्तान के दो बैंक खातों में जमा कई लाख रुपये के रिकॉर्ड भी इसमें शामिल है.


आत्मघाती हमलावर की बाद में स्थानीय निवासी आदिल अहमद डार के रूप में पहचान हुई थी. इस हमले में 40 CRPF के जवान शहीद हो गए थे. 29 मार्च 2019 में इस हमले का एक प्रमुख आतंकी फारूख मारा गया था, जिसका मोबाइल फोन जम्मू-कश्मीर पुलिस के पास था. इस मोबाइल फोन से कई फोटो, वीडियो और बातचीत के रिकॉर्ड NIA के हाथ लगे.  आईसी -814 अपहर्ता मोहम्मद इब्राहिम अतहर का बेटा फारूक पिछले साल मार्च में जम्मू-कश्मीर में एक मुठभेड़ में मारा गया था. 1999 में एयर इंडिया की फ्लाइट के अपहरण के बाद मसूद अजहर को भारतीय से रिहा कर दिया था.

एनआईए ने एक बयान में कहा“मुख्य आरोपी मोहम्मद उमर फारूक ने 2016-17 में विस्फोटक प्रशिक्षण के लिए अफगानिस्तान का दौरा किया था. एनआईए के सूत्रों ने कहा कि चार्जशीट में जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर एक सुरंग का उपयोग करके अप्रैल 2018 में भारत को पार करने वाले उमर फारूक सहित पांच जेएमएम आतंकियों के एक बैच के सबूत के तौर पर रखा गया है.

चीन के राजदूत ने गलवान में हुई झड़प को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, कहा- तनाव कम करना जरूरी

First published: 26 August 2020, 8:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी